रविवार, 25 नवंबर 2018

किस शैवाल का इस्तेमाल अंतरिक्ष यात्री खाने के रूप में करते हैं ?


किस शैवाल का इस्तेमाल अंतरिक्ष यात्री खाने के रूप में करते हैं ?

आइये आज आपको बताता हूँ कि अंतरिक्ष में अपने स्पेस स्टेशन में बैठे हुए अंतरिक्ष यात्री किस तरह का खाना खाते हैं ? काफी रोचक जानकारी है ये घर से इतने दूर डेली फ्रेश खाना तो नहीं पहुँच सकता फिर क्या खाते हैं ये लोग ?
सुनीता विलियम्स Hindi365
सुनीता विलियम्स अपने सह अंतरिक्ष यात्री के मिखेल टूरियन के साथ कुछ पीती हुई। 
एस्ट्रोनॉट (अंतरिक्ष यात्री) हमारे जैसा नॉर्मल फ़ूड तो नहीं खाते हैं लेकिन बहुत अलग भी नहीं। एस्ट्रोनॉट सूखा और फ्रीज किया हुआ खाना खाते हैं।  और ऐसा खाना जो कि प्रिज़र्वड कंडीशन में होता है क्योंकि खाना प्रतिदिन पृथ्वी से स्पेस स्टेशन नहीं जाता। ये सिर्फ कुछ फालतू एडवर्टाइजमेन्ट में ही दिखाया जा सकता है :-p 

तो खाने के लिए वहां रेफ्रिजरेटेड फ्रूट्स रहते हैं। जूसेज रहते हैं और जो सूखी वस्तुएं रहती हैं उनमे पैकेट में ही पहले पानी डाल कर खाने योग्य बना लेते हैं। आज के समय में वहां पर ज्यादातर वैरायटी भरी वस्तुए उपलब्ध कराने की कोशिश की जाती है लेकिन ऐसी कोई वस्तु नहीं ले जाई जाती जिसका अवशेष ज्यादा निकले। या फिर वो एस्ट्रोनॉट को वहां की कंडीशंस में नुकसान पहुचाये। वहां पर सभी स्पेस फ्रेंडली पदार्थ ही ले जाये जाते हैं। 
खाने के पैक किए हुए पदार्थ में गरम पानी डालकर, गरमा गरम वस्तुओं का आनंद लिया जाता है। नमक और मिर्च भी पाउडर फॉर्म में नहीं ले जाते क्यूंकि किसी के आंख नांक में ये पदार्थ जा सकते खाने में मिलाते वक्त। और वहां पर सूखा नमक और मिर्च पाउडर अच्छी तरह से खाने में मिलेगा भी नहीं वह सिर्फ तैरता रहेगा। इसलिए नमक और मिर्च भी तरल अवस्था में ले जाते हैं।
खाने में शैवाल की बात करें तो ये अभी एक्सपेरिमेंटल है लेकिन इसका प्रयोग किया जा सकता है। स्प्रोलिना नामक शैवाल को अंतरिक्ष में इस्तेमाल किया जा चुका है। इनका सबसे बड़ा फायदा ये होता है कि ये कार्बन डाई ऑक्साइड को सोख कर ऑक्सीजन बना देते हैं। यह एक्सपेरिमेंटल रहा है। इसे फ़ूड के तौर पर दिया जा सकता है।
Share this article :

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें