रविवार, 25 नवंबर 2018

अगर ये भी फेल होकर आज इतने ऊँचे पद पर हैं तो आप भी हो सकते हैं


अगर ये भी फेल होकर आज इतने ऊँचे पद पर हैं तो आप भी हो सकते हैं 

आज हम आपको बताएँगे कि किस तरह विश्व विख्यात लोग जैसे अमिताभ बच्चन, लीओन मैसी, टोनी ब्लेयर, अब्दुल कलाम, थॉमस अल्वा एडिशन इत्यादि लोगो को भी काफी संघर्ष करना पड़ा उसके बाद भी वो अपनी मंजिलों पर पहुंचे क्योंकि उन्होंने हार नहीं मानी बल्कि चलते गए। इनकी प्रेरणा दायी बातों के बारे में जानेंगे आज। 
मोटिवेशन (प्रेरणा) - Hindi 365
मोटिवेशन (प्रेरणा) - Hindi 365
  • अमिताभ बच्चन ऑल इंडिया रेडियो में इंटरव्यू देने गए थे लेकिन उनकी आवाज भारी है ये कहकर उन्हें रिजेक्ट कर दिया गया था। 
  • सचिन तेंदुलकर आठवीं कक्षा में फेल हो गए थे। 
  • अब्दुल कलाम पायलट के इंटरव्यू में फेल हो गए थे। 
  • बिल गेट्स अपनी यूनिवर्सिटी पढाई पूरी नहीं कर पाए थे। उन्हें ड्राप करना पड़ा 
  • धीरूभाई अंबानी पेट्रोल पंप पर काम करते थे। 
  • माइकल जॉर्डन को स्कूल की बास्केटबॉल टीम से निकाल दिया गया था। 
  • स्टीव जॉब्स अपने दोस्तों के रूम में फर्श पर सोया करते थे। और कई बार लोकल टेम्पल में जाकर फ्री खाना ख़ाते थे। 
  • लीओन मैसी अपनी फुटबॉल ट्रेनिंग की फीस भरने के लिए एक दुकान पर चाय सर्व करते थे। 
  • टोनी ब्लेयर को उनके टीचर फैलियर कह कर बुलाते थे। 
  • अल्बर्ट आइंस्टीन को उनके टीचर मानसिक रूप से विकलांग मानते थे क्यूंकि 4 साल तक वो बोल ही नहीं पाते थे उन्होंने 07 साल का होने पर पढ़ना सीखा। 
  • हैरी पॉटर नॉवेल की लेखिका जे के रोलिंग को 12 बार पब्लिशर्स ने रिजेक्ट कर दिया था। 
  • सिल्वेस्टर स्टैलोन को करीब 1500 बार रिजेक्ट किया गया जब वो अपनी मशहूर रॉकी फिल्म की स्क्रिप्ट और खुद को उसके लिए बेचने का प्रयास कर रहे थे। 
  • एक सही बल्ब बनाने से पहले थॉमस अल्वा एडिशन 10000 ऐसे तरीके पता कर चुके थे जिनसे सही बल्ब नहीं बनेगा। 
  • विंस्टन चर्चिल जो क़ी 62 साल की उम्र में प्रधानमंत्री बने वह छठी क्लास में फेल हो गए थे। उसके बार काफी बार राजनीतिक हार देखी लेकिन रुके नहीं और अंत में प्रधानमंत्री बने।
इन सब लोगो में एक कई चीजे कॉमन हैं : कोई असफलता से रुका नहीं। आज सभी मशहूर हैं। शायद यदि इन्हे पहले ही सफलता मिल जाती तो इतने बड़े नहीं बन पाते। तो ये बात सच है जो होता है अच्छे के लिए ही होता है। इसलिए फेल होने से घबराओ मत लड़ो और आगे बढ़ो। ये सिर्फ कुछ उदाहरण हैं। हो सकता है कल आपका भी कोई उदाहरण दे। वक्त बदलने में समय नहीं लगता। रुको मत सिर्फ अच्छी नीयत के साथ बढ़ते रहो। अच्छा लगा हो तो शेयर करना न भूलें। 
Share this article :

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें