गुरुवार, 22 नवंबर 2018

भारत का राष्ट्र गान - जन गण मन


भारत का राष्ट्रगान - जन गण मन

आइये जानते हैं भारत के राष्ट्र गान के बारे में कुछ ऐसी बातें जो शायद आपको अभी तक पता नहीं होंगी लेकिन पता होना जरुरी है। हम आपको बताएँगे कि राष्ट्रगान के बोल क्या हैं ? उसे 52 सेकंड में क्यों जाता है। यह कहाँ से लिया गया है इत्यादि। 
जन गण मन - हिंदी365
जन गण मन - हिंदी365

जन गण मन के बोल नीचे दिए गए हैं -

जन गण मन अधिनायक जय हे 
भारत भाग्य विधाता 
पंजाब सिन्ध गुजरात मराठा
द्राविड़ उत्कल बंग 
विन्ध्य हिमाचल यमुना गंगा 
उच्छल जलधि तरंग 
तव शुभ नामे जागे 
तव शुभ आशिष मागे 
गाहे तव जय गाथा 
जन गण मंगल दायक जय हे 
भारत भाग्य विधाता 
जय हे जय हे जय हे 
जय जय जय जय हे

जन गण मन से जुड़े कुछ प्रश्न 
प्रश्न : भारत का राष्ट्रगान कहाँ से लिया गया है ?
उत्तर : रबीन्द्रनाथ टैगोर ने बंगाली में एक कविता लिखी थी जिसका शीर्षक था भारतो भाग्यो बिधाता। उसी कविता के पहले स्टैंज़ा को भारत के राष्ट्रगान के रूप में अपनाया गया। 

प्रश्न : जन गण मन औपचारिक रूप से पहली बार कब गया गया ?
उत्तर : 26-28 दिसंबर 1911 को कलकत्ता में कांग्रेस का 26वण अधिवेशन हुआ। उसमे 27 दिसंबर 1911 को पहली बार जन गण मन गाया गया। 

प्रश्न : जन गण मन को भारत ने कब राष्ट्रगान के रूप में अपनाया?
उत्तर : 24 जनवरी 1950 को जन गण मन को भारत ने अपने राष्ट्रगान के रूप में अपना लिया। 

प्रश्न : राष्ट्रगान को ठीक कितने समय में गाया जाता है ?
उत्तर : औपचारिक तौर पर इसका गाने का समय 52 सेकंड है क्योंकि इस गाने को ठीक से सुर में गाने पर 52 सेकंड का समय लगता है। 

प्रश्न : अगर भारत का राष्ट्रगान गाया जा रहा है और कोई उसे छोड़ कर चला जाये तो उस पर कार्यवाई क्या हो सकती है क्या कानून है ?
उत्तर : संविधान के आर्टिकल 51 A के अनुसार भारत के हर नागरिक को देश के राष्ट्रगान का सम्मान करना होगा। जैसे कि सुप्रीम कोर्ट ने कम्पलसरी कर दिया था कि हर फिल्म से पहले राष्ट्रगान चलेगा और सब लोग खड़े होकर उसे गाएंगे। 
इसके लिए 23 दिसंबर 1971 को भारतीय संसद ने एक कानून बनाया था इसको प्रिवेंशन ऑफ़ इंसल्ट तो नेशनल हॉनर एक्ट 1971 कहा जाता है इसके अनुसार कोई भी व्यक्ति भारत के गरिमा चिन्हों की अवहेलना व बेज्जती नहीं कर सकता। 
इसी कानून की सेक्शन 3 के अनुसार यदि कोई व्यक्ति भारत के राष्ट्रगान की अवहेलना जानबूझ के यदि करता पाया जाता है जैसे राष्ट्रगान के समय कोई ऐसी क्रिया जिससे राष्ट्रगान में बाधा उत्पन्न हो तो उस पर 3 साल की सजा और धन के रूप में दंड या फिर दोनों लगाए जा सकते हैं। वैसे किसी पर इस कानून को लगाने की नौबत नहीं आनी चाहिए। हर व्यक्ति को अपने राष्ट्र परिचायको का सम्मान सदैव करना चाहिए। 
कुछ देशो में तो और भी कड़े कानून हैं इस तरह के जुर्म करने पर। 

प्रश्न दुनिया का ऐसा पहला देश कौन सा है जिसने अपना राष्ट्रगान औपचारिक रूप से अपनाया?
उत्तर : सबसे पहले औपचारिक रूप से इंग्लैंड (ब्रिटैन) ने 1745 में अपनाने की घोषणा की उनका ये नेशनल एंथम है - गॉड सेव द क्वीन 

प्रश्न : जन गण मन भारत के राष्ट्रगान में कितनी नदियों का उल्लेख है ?
उत्तर - दो नदियों का उल्लेख है - गंगा और यमुना। 
Share this article :

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें