शनिवार, 10 नवंबर 2018

मेरठ के बारे में जानकारी


मेरठ के बारे में जानकारी

मेरठ भारत के उत्तर प्रदेश राज्य का एक शहर है। मेरठ शहर उत्तर प्रदेश के सबसे तेज विकसित होने वाले शहरों में से एक है। मेरठ में दिन  प्रतिदिन विकास बढ़ता जा रहा है।मेरठ राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र एनसीआर का हिस्सा है। यहां भारतीय सेना की एक छावनी भी है।

सन 1950 में यहां से 23 मील उत्तरी पूर्व में स्थित एक स्थल विदुर का टीला की पुरातात्विक खुदाई से ज्ञात हुआ कि यह शहर प्राचीन नगर हस्तिनापुर का अवशेष है। जो महाभारत काल में कौरव राज्य की राजधानी थी।

मेरठ मौर्य सम्राट अशोक के काल में(273 ईसा पूर्व से 232 ईसा पूर्व) बौद्ध धर्म का केंद्र रहा।मेरठ छावनी ही वह स्थान है जहां हिंदू और मुस्लिम सैनिकों को बंदूके दी गई जिसमें गाय और सुअर की चर्बी लगी हुई थी। गाय हिंदुओं के लिए पवित्र थी और सूअर मुसलमानों के लिए अछूत। और इसी कारण सेना की 90 में से 85 टुकड़े होने गोलियों को छूने तक से मना कर दिया।और कोर्ट मार्शल के बाद उन्हें 10 वर्ष का कारावास मिला। और यहीं से ब्रिटिश राज्य से मुक्ति पाने की पहल चालू हुई।

पौराणिक महत्व-

महाभारत  में वर्णित लाक्षागृह, जो  पांडवों  को जीवित जलाने हेतु  दुर्योधन  ने तैयार करवाया था, यहीं पास में वार्णावत (वर्तमान बरनावा) में स्थित था। यह मेरठ- बड़ौत  मार्ग पर पड़ता है।

रामायण  में वर्णित  श्रवण कुमार  ने अपने बूढ़े माता पिता को तीर्थ यात्रा कराने ले जा रहा था। वे दोनों एक कांवड़ पर बैठे थे। यहीं आकर, श्रवण कुमार ने प्यास के मारे, उन्हें जमीन पर रखा, व बर्तन लेकर सरोवर से जल लेने गया।
 उसके बर्तन की पाने में आवाज को सुनकर, आखेट हेतु निकले महाराजा दशरथ  ने उसे जानवर समझ कर तीर चला दिया, जिससे वह मृत्यु को प्राप्त हुआ। उसके दुःख में ही उसके माता पिता तड़प तड़प कर मर गये, व मरते हुए, उन्होंने दशरथ को शाप दिया, कि जिस प्रकार हम अपने पुत्र वियोग में मर रहे हैं, उसी प्रकार तुम भी अपने पुत्र के वियोग में मरोगे। और वैसा ही हुआ। मेरठ को दैत्यराज  रावण  की ससुराल भी माना जाता है।

निकटवर्ती शहर- राजधानी दिल्ली, रुड़की, देहरादून सहारनपुर अलीगढ, नोएडा, गाजियाबाद ,हापुड़ आदि।

प्रश्न : मेरठ नगर निगम के वार्ड 6 और वार्ड 46 का वर्तमान निगम पार्षद कौन है ? [Asked 11 / 2018 ]
उत्तर : मेरठ नगर निगम के हुए 2017 के चुनाव में वार्ड 6 (मोहकमपुर) से भाजपा की ज्योति नवीन कुमार पार्षद चुनी गई और वार्ड 46 (यादगार पुर ) से भाजपा की स्वाति सुमित चुनी गयी।

प्रश्न : मेरठ से रत्नागिरी ट्रैन का समय क्या है ?
उत्तर : वैसे तो मेरठ से रत्नागिरी जाने के काफी तरीके हैं लेकिन यदि आप मेरठ से डायरेक्ट रत्नागिरी जाना चाहते हैं तो कोई डायरेक्ट ट्रैन तो है नहीं। इसका सबसे आसान तरीका होगा की आप वहां से किसी भी ट्रैन  से हज़रत निजामुद्दीन पहुंचे और वहां से मुंबई और मुंबई से आसानी से रत्नागिरी की ट्रैन पकड़ सकते हैं।
मेरठ से निजामुद्दीन / नई दिल्ली जाने वाली ट्रैन
छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस - सुबह 0215 बजे मेरठ -- सुबह 0415 निजामुद्दीन
नंदादेवी एक्सप्रेस्स, गोल्डन टेम्पल मेल, अमृतसर इंदौर एक्सप्रेस शालीमार एक्सप्रेस व अन्य एक्सप्रेस व अनारक्षित पैसेंजर ट्रेन

प्रश्न : मेरठ में खाने के लिए क्या चीजें प्रसिद्द हैं ?
उत्तर : मेरठ में आपको खाना की काफी वैरायटी मिल जाएगी। छोटे से छोटे ढाबे से लेकर बड़े से बड़े होटल। औसतन हर जगह खाने का टेस्ट अच्छा है लेकिन कुछ जगह और उनपर मिलने वाले खाद्य पदार्थ तो जबरदस्त ही हैं जैसे -

  • हरिया(शास्त्रीनगर) की क्रीम से लथपथ लस्सी 
  • आबूलेन पर मिलने वाली पापरी चाट 
  • गोलगप्पे खाने के लिए आरवी कॉलेज के पास बृजमोहन टिक्की स्टाल 
  • बुढ़ाना गेट पर गुप्ता टी स्टाल के चाय जलेबी (समोसा कचौरी के साथ)

कुछ और महत्वपूर्ण जानकारी पढ़ने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करो 
Share this article :

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें