मंगलवार, 4 दिसंबर 2018

क्या आपको पता है दिल्ली डेयरडेविल्स का नाम बदल चुका जानिए क्या है नया नाम?

कोई टिप्पणी नहीं:

क्या आपको पता है दिल्ली डेयरडेविल्स का नाम बदल चुका है

दिसम्बर 04 2018 को आईपीएल टीम दिल्ली डेयरडेविल्स के मालिकों ने टीम का नाम बदलने की घोषणा कर दी है। 29 मार्च 2019 - 19 मई 2019 तक आईपीएल 2019 का आयोजन होगा। इससे पहले ही टीम ने अपना नाम बदलने की घोषणा आज कर दी। 

दिल्ली कैपिटल्स टीम लोगो Hindi365
दिल्ली कैपिटल्स टीम लोगो
बहुत ही जल्द आईपीएल का 12 वां एडिशन शुरू होने वाला है। आज 4 दिसम्बर को एक कार्यक्रम के दौरान जेएसडब्लू स्पोर्ट्स के डायरेक्टर पार्थ जिंदल ने टीम का नाम दिल्ली डेयरडेविल्स से बदलकर दिल्ली कैपिटल्स करने की घोषणा कर दी। उन्होंने इस मौके पर कहा कि दिल्ली देश की राजधानी है तो इसको और दिल्ली के निवासियों को सम्मान देने के लिए टीम का नाम दिल्ली कैपिटल्स किया गया है। दरअसल जेएसडब्लू स्पोर्ट्स ने हाल में इस टीम की फ्रैंचाइज़ी में 50 प्रतिशत हिस्सा खरीद लिया है। 
उन्होंने इस मौके पर कुछ अन्य घोषणा भी की जो कि निम्न लिखित हैं -
उन्होंने बताया आईपीएल के इस 2019 सीजन में श्रेयस अय्यर टीम के स्किपर रहेंगे। और श्रेयस अय्यर ही टीम के कप्तान होंगे। गौतम गंभीर की जगह उन्होंने पिछले साल ही बीच में ये जिम्मेदारी संभाल ली थी। उन्होंने शिखर धवन का कोर टीम में लेने के लेकर बताया कि जिस तरह शिखर काफी अच्छा खेला है आईपीएल में तो ये उनका अनुभव टीम की मदद करेगा। 
उन्होंने बताया की टीम ने भूतपूर्व कैप्टन गौतम गंभीर को रिलीज कर दिया है। अन्य अच्छे खिलाडी जो रिलीज़ किये गए हैं जेसन रे, ग्लेन मैक्सवेल, लियाम प्लंकेट और मोहम्मद शामी। 
आईपीएल 2019 की खिलाडी बोली 18 दिसंबर 2018 को जयपुर में होगी। इस टीम को मुहम्मद कैफ का फायदा भी मिलेगा शिखर धवन के साथ। दरअसल ये टीम शुरू से आईपीएल खेल रही है लेकिन अभी तक फाइनल नहीं जीती कभी तो काफी बदलाव किये जा रहे हैं। इस बार काफी कुछ नया देखने को मिल सकता है दिल्ली कैपिटल्स के प्रदर्शन में। 
उन्होंने यह भी बताया कि वो इस बार ऑक्शन में 25 करोड़ रूपये लेकर उतर रहे हैं। शिखर धवन को तो पहले ही सनराइजर्स हैदराबाद से विजय शंकर, अभिषेक शर्मा और शाहबाज नदीम के बदले दिल्ली कैपिटल्स में ले चुके हैं। 
Continue Reading...

सोमवार, 3 दिसंबर 2018

स्प्लिट्सविला 11 के कुछ प्रश्न और किस्से

कोई टिप्पणी नहीं:

स्प्लिट्सविला 11 के कुछ प्रश्न और किस्से 

स्प्लिट्सविला 11 के 25 नवम्बर 2018 को आये 17वे एपिसोड में श्रुति ने रोहन को डिच कर दिया है। उसने गौरव के साथ पेयर बना लिया है। और आज के बेवॉच सेशन का नाम था ओप्पो योगालीशियस।इस सेशन के विजेता बने -
अ माइरा, फहाद अली  और आरुषि दत्ता की तिगड़ी 
ब श्रुति गौरव और अनुष्का की तिगड़ी 

स्प्लिट्सविला 11 के किस्से Hindi365
स्प्लिट्सविला 11 के किस्से 
एपिसोड 18 
एपिसोड 17 परिणाम स्वरुप गौरव और श्रुति की डेट होती है। रोहन की लग जाती है। बेचारा रोहन। भला ऐसे करता है कोई लौंडा अकेला घूम रहा है बंदी अपने दोस्त के साथ डेट पर गयी है उसकी। इसके बाद गौरव और कबीर की लड़ाई होती है उसके बाद श्रुति और अनुष्का की लड़ाई हो जाती है।  इसके बाद सीक्रेट सेशन होता है। रोशनी और अंशुमान सीक्रेट सेशन के लिए जाते हैं। उन्हें ओरेकल ने एक टास्क दिया कि उन्हें उस आइडियल मैच का नाम बताना है जो नए स्प्लिट्सविलान आने के कारण अब आइडियल मैच नहीं रहा है और अगर ये नहीं बता पाते हैं तो उसके परिणाम अच्छे नहीं होंगे। वैसे मुझे इसका उत्तर लगता है आरुषि हांडा और शगुन पांडे। उनका कनेक्शन थोड़ा ठीक नहीं चल रहा ओवर आल।
फिर टेस्ट योर बांड चैलेंज होता है इसका नाम था डेनवर गाना बजाना। 
इस टेस्ट योर बॉन्ड चैलेंज की विजेता जोड़ी होती हैं -
अ फहाद और आरुषि दत्ता 
दूसरी विजेता जोड़ी का पता 09 दिसंबर को चलेगा। 

शगुन पांडेय और संयुक्ता की डेट की दास्ताँ 
13वे एपिसोड में शगुन पांडेय और संयुक्ता को डेट पर जाने का मौका लगा। शगुन तो ये चाहता ही था। लट्टू था भाई अपना संयुक्ता पर लव लैटर लिखके लाया था संयुक्ता के लिए। संयुक्ता ने भी पॉजिटिव रेस्पोंस दिया। लेकिन भाई सम्युक्ता थोड़ी स्मार्ट है। शगुन का लव लैटर हमने नीचे लिख दिया है लौंडे ने कोशिश अच्छी की। 

स्प्लिट्सविला पर शगुन ने कौनसी शायरी गायी 
ये शगुन के सम्युक्ता को लिखे लैटर से ली गयी हैं 
शगुन - "सिर्फ डेढ़ दिन हुआ है लेकिन आप मेरे साथ ऐसे आकर खड़े हुए हो जैसे हमारा पहले का कोई नाता था हम एक दूसरे को बहुत पहले से जानते थे। तुम्हे देखकर अहसासे शुकुन मिलता है कि कोई खेल को इतना भी ध्यान मैं नहीं रखता कि जिंदगी के अहम अहसासों को भुला देता है। तुम्हे बताना चाहता हूँ कि यूँ तो लोग मुझे गुस्से वाला और बद्तमीज समझते हैं मैं तुम्हारे लिए सुधरना चाहता हूँ।" वाह लौंडे बहुत सही ट्राई किया। लेकिन सम्युक्ता उस दिन खुश तो दिखीं लेकिन हम आपको बताएं तो वह बहुत स्मार्ट हैं उन्हें काफी रियलिटी शो पर देखा है हमने। सम्युक्ता की इस डेट की एक मुस्कराहट ने हांडा और शगुन को एक तरह से अलग कर दिया था। वैसे इनके बीच कोई कनेक्शन था नहीं। 
Continue Reading...

रविवार, 2 दिसंबर 2018

अरुण जेटली का कार्यकाल

कोई टिप्पणी नहीं:

अरुण जेटली का कार्यकाल

जेटली 1991 से भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रिय कद के नेता हैं। आज हम इस आर्टिकल में बताएँगे कि उनका सफर कैसा रहा। उन्होंने छात्र नेता से अपना सफर शुरू किया फिर सुप्रीम कोर्ट में वकील रहे लेकिन आज हम यहाँ उनका राजनीतिक सफर डिसकस करेंगे जो कि अच्छी तरह से 1991 में शुरू हुआ जब वो बीजेपी के नेशनल एग्जीक्यूटिव बन गए। 1999 के आम चुनावो में उन्होंने भाजपा के प्रवक्ता की भूमिका भी निभाई। 

LK advani Arun Jaitley Atal Bihari Vajpayee Hindi365
एल के अडवाणी अरुण जेटली और अटल बिहारी वाजपेयी 
1999 में वाजपेयी सरकार में 13 अक्टूबर 1999 को अरुण जेटली को इनफार्मेशन & ब्रॉडकास्टिंग के राज्य मंत्रालय का दायित्व सौपा गया। 23 जुलाई 2000 को जब राम जेठमलानी ने अपने कानून मंत्रालय के पद से इस्तीफ़ा दिया तो वो मंत्रालय भी जेटली को सौपा गया। पार्टी ने शुरू से ही अरुण को काफी जिम्मेदार समझा और उन्हें जब भी जरुरत पड़ी उन्होंने अरुण जेटली को अतिरिक्त मंत्रालय के बीच बीच में जिम्मेदारी सौपी जाती रही। ये एनडीए की सरकार का कार्यकाल था।
नवम्बर 2000 में उन्हें केबिनेट मिनिस्टर बना दिया गया और कानून मंत्रालय का पूर्ण भार अरुण जेटली के दायरे में आ गया। 01 जुलाई 2002 को उन्होंने मंत्री पद छोड़कर बीजेपी के महा सचिव और राष्ट्रिय प्रवक्ता का पद संभाल लिया। और जनवरी 2003 तक इसी पद पर कार्य किया। फिर जनवरी 2003 में फिर से कानून मंत्रालय के केंद्रीय मंत्री बन गयी। मई 2004 में एनडीए सरकार को हार देखनी पड़ी तो अरुण जेटली फिर से बीजेपी के महा सचिव बन गए और साथ ही फिर से उन्होंने वकालत का कार्य शुरू कर दिया। 

03 जून 2009 को अरुण जेटली को राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष चुना गया। क्योकिं बीजेपी में कोई भी नेता दो पद पर नहीं रह सकता ऐसा नियम है इसलिए उन्होंने भाजपा सचिव का पद छोड़ दिया। राजयसभा का नेता रहते हुए उन्होंने कई महत्वपूर्ण विधेयकों पर कार्य किया। महिला आरक्षण बिल और अन्ना हजारे के जन लोकपाल बिल को समर्थन दिया। उनके नेतृत्व में संविधान में 84वां संशोधन (2002) और 91वां संशोधन (2004) में हुआ। 
84वां संशोधन संसदीय सीट की संख्या 2026 तक फिक्स करने के लिए किया गया। 2014 में नवजोत सिंह सिद्धू की जगह अमृतसर से चुनाव लड़ा लोकसभा का लेकिन उन्हें कांग्रेस के अमरिंदर सिंह ने हरा दिया। वह गुजरात से राज्य सभा में थे 2018 में उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से फिर से राज्यसभा में आ गए। 

26 मई 2014 को नरेंद्र मोदी सरकार में इन्हे केबिनेट मिनिस्टर बना दिया गया। इन्हें वित्त मंत्रालय सौप दिया गया।  बीच में कई बार रक्षा मंत्रालय और कॉर्पोरेट अफेयर मंत्रालय भी अतिरिक्त भार के रूप में इन्हे दिया गया। काफी अनुभवी नेता हैं इसलिए इनपर काफी जिम्मेदारी रहती हैं। भारत सरकार में अपने रोल के अलावा ये एशियाई विकास बैंक के बोर्ड ऑफ़ गवर्नर्स का हिस्सा हैं। 
इन्होने आय घोषणा योजना 2016 की अनाउंसमेंट की जिसके तहत आप अपनी संपत्ति की घोषणा करके टैक्स चुकाकर उसे ब्लैक से वाइट कर सकते थे इसमें इस अनकथित आय पर 30 प्रतिशत टैक्स देना था और फिर 25 प्रतिशत सरचार्ज भरना था। 
09 नवंबर 2016 को इनके कार्यकाल में ही ब्लैक मानी और भ्रष्टाचार को रोकने के लिए 500 और 1000 के उस समय के पुराने नोटों का विमुद्रीकरण हुआ। ये नोटबंदी काफी कठिन कदम था इसने पूरे देश को हिला कर रख दिया था 
01 जुलाई 2017 को इन्होने ही गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स जीएसटी की शुरुआत लगभग देशभर के सभी राज्यों में कर दी। अभी कार्यकाल जारी है देखते हैं आगे क्या क्या होता है जेटली जी के कार्यकाल में। 
Continue Reading...

शनिवार, 1 दिसंबर 2018

प्रियंका चौपडा और निक जोनास की शादी से लीक हुई वायरल फोटोज

कोई टिप्पणी नहीं:

प्रियंका चौपडा और निक जोनास की शादी से लीक हुई वायरल फोटोज

दरअसल प्रियंका चौपड़ा और निक जोनास की शादी राजस्थान के जोधपुर में ताज उम्मेद भवन पैलेस में हो रही है। निक जोनास पहले अपने परिवार के साथ दिल्ली पहुंचे और वहां पर प्रियंका चौपडा ने अपने कुछ खास लोगों के साथ थैंक्सगिविंग डिनर का आयोजन किया। उसकी पिक्चर प्रियंका ने खुद अपने इंस्टाग्राम पर डाली। हम आपको और कई ऐसी पिक्चर इस कार्यक्रम से दिखाएंगे जो अभी इस समय इंटरनेट पर वायरल हो रही हैं।

Priyanka Chopra Nick Jonas Hindi365
निक जोनास मध्य और उनके दाएं हाथ पर बैठी हैं प्रियंका चौपड़ा
दिल्ली में थैंक्स गिविंग डिनर की तस्वीर
अब आपको दिखाते हैं पहले ताज उम्मेद भवन पैलेस के कुछ नज़ारे। दरअसल ऐसी जगह शादी होना बहुत लोगो का सपना रहता होगा लेकिन हर कोई ऐसी महँगी जगह शादी नहीं कर सकता लेकिन पैलेस के फोटो देखने में क्या बुराई है? आइये देखते हैं ये भव्य ताज उम्मेद भवन पैलेस। 

priyanka chopra nick jonas marriage pics
शादी का मेन हॉल 

ये डाईनिंग हॉल है 

ये है महल का जोडिएक पूल 

प्रियंका चोपड़ा और निक जोनास इस जोड़े को लोग पिकनिक
 से सम्बोधित कर रहे हैं सोशल मीडिया पर  

priyanka chopra nick jonas wedding images
पिकनिक

priyanka chopra nick jonas wedding images
प्रियंका और निक की जोधपुर पहुँचने की फोटो 

priyanka chopra nick jonas wedding images
आनंद लेते हुए प्रियंका और निक 

priyanka chopra nick jonas wedding images
प्रियंका अपने संगीत की ड्रेस में 

priyanka chopra nick jonas wedding images
पिकनिक पिकनिक मनाते हुए शादी के संगीत रस्म के दौरान 

priyanka chopra nick jonas wedding images
प्रियंका चोपड़ा निक जोनास और निक के भाई की मंगेतर सोफी

अभी इतनी फोटो आयी हैं जो हमने आपको दिखा दी। और फोटो आने पर फिर से अपलोड करेंगे। आप बस हमसे इसी तरह जुड़े रहें और हम आपको यहीं से इसी तरह पिकनिक की शादी के अपडेट देते रहेंगे। अच्छे लगे हो तो शेयर कीजिये अपने फ्रेंड्स के साथ। 
Continue Reading...

तारक मेहता का उल्टा चश्मा नामक धारावाहिक के कलाकार

कोई टिप्पणी नहीं:

तारक मेहता का उल्टा चश्मा नामक धारावाहिक के कलाकार

28 जुलाई 2008 से शुरू हुआ तारक मेहता का उल्टा चश्मा भारत में सबसे ज्यादा दिन तक चलने वाला धारावाहिक है। ये सब टीवी चैनल पर आता है। आज हम जानने की कोशिश करेंगे कि इसके मुख्य किरदारों के असली नाम क्या हैं ?

तारक मेहता का उल्टा चश्मा हिंदी365
तारक मेहता का उल्टा चश्मा हिंदी365
इसके मुख्य कलाकार और उनके असली नाम नीचे दिए गए हैं :
किरदार का नाम - असली नाम
जेठालाल चम्पकलाल गड़ा - दिलीप जोशी 
दया जेठालाल गड़ा - दिशा वखणी 
टिपेन्द्र जेठालाल गड़ा उर्फ़ टप्पू - भव्य गाँधी (2008 - 2017)
टप्पू - राज आनंदकत (2017 से वर्तमान )
चम्पकलाल जयंतीलाल गड़ा - अमित भट्ट 
तारक मेहता - शैलेश लोधा
अंजली तारक मेहता - नेहा मेहता 
कृष्णन सुब्रमणियम अइय्यर - तनुज महाशब्दे 
बबिता कृष्णन अइय्यर - मुनमुन दत्ता 
आत्माराम तुकाराम भिड़े - मंदार चांदवड़कर 

Advertisements



माधवी आत्माराम भिड़े - सोनालिका जोशी 
सोनालिका आत्माराम भिड़े (सोनू ) - निधी भानुशाली 
रोशन सिंह हरजीत सिंह सोढ़ी - गुरचरण सिंह  
रोशन कौर रोशन सिंह सोढ़ी - जेनिफर मिस्त्री बंसीवाल
गुरचरण सिंह रोशन सिंह सोढ़ी (गोगी) - समय शाह 
डॉ हंसराज हाथी - निर्मल सोनी 
कोमल हंसराज हाथी - अम्बिका रंजंकर
गुलाबकुमार हंसराज हठी - कुश शाह 
पोपटलाल पांडे - श्याम पाठक 
अब्दुल - शरद शंकला 
Continue Reading...

शुक्रवार, 30 नवंबर 2018

अक्षय कुमार से जुड़े उनके फैंस के प्रश्न

कोई टिप्पणी नहीं:

अक्षय कुमार से जुड़े उनके फैंस के प्रश्न

प्रश्न : अक्षय कुमार का ब्रदर्स फिल्म में नाम क्या था ?
उत्तर : 2015 में आई इस फिल्म में अक्षय का नाम था डेविड फर्नांडिस। सिद्धार्थ मल्होत्रा को इस फिल्म में अक्षय का भाई दिखाया गया है। सिद्धार्थ का इस फिल्म में नाम था - मोंटी फर्नांडिस

अक्षय कुमार हिंदी365
अक्षय कुमार हिंदी365
प्रश्न : क्या अक्षय ओडिशा पुरुष हॉकी वर्ल्ड कप में पहुंचेंगे ?
उत्तर : जी हैं इस प्रोग्राम में अक्षय कुमार और शाहरुख़ खान दोनों ही मौजूद रहेंगे। 

प्रश्न : तलातुम तलातुम गाना अक्षय कुमार की किस फिल्म का है ?
उत्तर : ये गाना अक्षय की 2004 में आयी फिल्म ऐतराज का है। इसमें प्रियंका चौपड़ा, करीना कपूर और अमरीश पुरी ने भी काम किया है। 

Advertisements



प्रश्न :अक्षय कुमार का असली नाम क्या है ?
उत्तर : इनका असली और पूरा नाम राजीव हरी ओम भाटिया है। इनका जन्म 09 सितम्बर 1967 को पंजाब के अमृतसर में हुआ था।

प्रश्न : अक्षय कुमार की पहली फिल्म कौन सी थी ?
उत्तर : अक्षय की सबसे पहली फिल्म 1987 में आयी महेश भट्ट की फिल्म आज है। लेकिन उनका रोल इसमें छोटा ही था। इनकी फिल्म बतौर लीड एक्टर देखा जाये तो 1991 में रिलीज हुई सौगंध फिल्म थी।

प्रश्न : अक्षय कुमार की पत्नी का नाम क्या है ?
उत्तर : ट्विंकल खन्ना अक्षय की वाईफ हैं। वो भी फिल्म इंडस्ट्री से जुडी हुई हैं और एक लेखिका भी हैं।

प्रश्न : क्या अक्षय कुमार के पास दोहरी नागरिकता है ?
उत्तर : हाँ अक्षय के पास भारत का पासपोर्ट है और उनके पास कनाडा की नागरिकता भी है। अक्षय को उनके फिल्मो में योगदान को देखते हुए कनाडा सरकार ने उन्हें ये नागरिकता दी थी जो अक्षय ने स्वीकार की। हालाँकि ये भारत के कानून के मुताबिक सही नहीं है। भारत किसी भी व्यक्ति को दोहरी नागरिकता को मान नहीं देता लेकिन ठीक है जब तक आप देशहित में ठीक ठाक चल रहे हैं तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। 
Continue Reading...

अजय देवगन से जुड़े कुछ प्रश्न

कोई टिप्पणी नहीं:

अजय देवगन से जुड़े कुछ प्रश्न

प्रश्न : क्या अजय देवगन की फिल्म दिलवाले के लिए उस समय कोई अवॉर्ड नहीं मिला ?
उत्तर : नहीं इस फिल्म को कोई अवॉर्ड नहीं मिला उस समय। सुनील शेट्टी का 1995  में 40 वे फिल्मफेयर बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर के लिए नॉमिनेशन जरूर हुआ था लेकिन ये अवॉर्ड उन्हें नहीं मिल पाया। ये अवॉर्ड भी उस समय जैकी श्रॉफ ने जीत लिया था फिल्म 1942 - अ लव स्टोरी 

प्रश्न : कौन सी फिल्म में अजय देवगन का नाम विजय सालगाओंकर था ?
उत्तर : दृश्यम फिल्म (2015)

प्रश्न : रब्बा इश्क ना होवे अजय देवगन की किस फिल्म का गाना है ?
उत्तर : ये अजय देवगन की फिल्म का नहीं बल्कि अक्षय कुमार की फिल्म अंदाज का गाना है। 

Advertisements



प्रश्न : फिल्म फूल और कांटे में अजय देवगन और अमरीश पूरी का क्या रिश्ता होता है ?
उत्तर : फूल और कांटे से अजय देवगन की बॉलीवुड में एंट्री हुई थी। इस फिल्म में अमरीशपुरी ने एक अंडरवर्ल्ड डॉन का किरदार निभाया है जिसका नाम नागेश्वर होता है। अजय नागेश्वर का इकलौता बेटा होता है इस फिल्म में। 

प्रश्न : अजय देवगन की पत्नी का नाम क्या है ?
उत्तर : काजोल देवगन। अजय ने सहअभिनेत्री काजोल मुखर्जी से 1991 में शादी की। 

ajay devgan kajol Hindi365
अजय देवगन अपनी पत्नी काजोल के साथ 
प्रश्न : अजय देवगन और अमरीश पुरी की फिल्मो के नाम क्या हैं ?
उत्तर :  1991 फूल और कांटे 
1993 संग्राम 
1993 दिव्या शक्ति 
1995 हक़ीक़त 
1995 गुंडाराज
1995 हलचल 
1996 में दिलजले
1996 जान 
1997 इतिहास 
1999 तक्षक
1999 गैर  
2004 टार्जन द वंडर कार 
इत्यादि कई फिल्म अजय और अमरीश पुरी साहब ने साथ की। 
Continue Reading...

ऐश्वर्या राय बच्चन से जुडी जानकारी

कोई टिप्पणी नहीं:

ऐश्वर्या राय बच्चन से जुडी जानकारी


प्रश्न : ऐश्वर्या राय के घर का पता क्या है ?
उत्तर : ऐश्वर्या राय बच्चन अपने पति अभिषेक बच्चन के साथ मुंबई में जलसा नामक घर में रहती हैं। जलसा मुंबई के जुहू बीच इलाके में स्थित है। इसका पता है : वैकुंठलाल मेहता रोड, शिवकुंज, जेवीपीडी स्कीम, जुहू मुंबई - 49. 
Aishwarya Rai Hindi 365
ऐश्वर्या के घर का एक कक्ष
प्रश्न : ऐश्वर्या राय की आंख किसने खरीदी हैं ?
उत्तर : उनकी आँख बेहद ही खूबसूरत है। उनकी आँखों को किसी ने ख़रीदा नहीं है बल्कि उन्होंने मृत्योपरांत उन्हें दान करने की घोषणा की है। आई बैंक एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया नामक एक संस्था है। ऐश्वर्या इस संस्था के लिए लोगों को अपनी आँख दान करने के लिए अपील करती हैं और उन्होंने इसी संस्था को अपनी आँख मृत्यु के पश्चात दान देने की घोषणा की है। 

प्रश्न सुनील शेट्टी और ऐश्वर्या राय की ऐसी कौन सी फिल्म है जो अभी तक रिलीज़ नहीं हुई है ?
उत्तर : अनीस बाज्मी के डायरेक्शन में 1997 में 70 प्रतिशत शूट हो चुकी फिल्म राधेश्याम सीताराम अभी तक रिलीज़ नहीं हो पायी है। कारण तो नहीं पता लेकिन 70 प्रतिशत बनी हुई फिल्म को कोई क्यूँ लटका के रखेगा ये सोचने वाली बात है। आपको पता है तो कमेंट करें। ये फिल्म एक हॉलीवुड फिल्म कॉमेडी ऑफ़ एरर्स का रीमेक बताई जाती है और इसमें सुनील और ऐश दोनों का ही डबल रोल था। लेकिन फिल्म अभी तक 20 साल बाद भी रिलीज़ नहीं हुई है। 
Aishwarya Rai Camera Hindi 365
ऐश्वर्या राय कैमरा के साथ
प्रश्न :राज कुमार राव ने ऐश्वर्या बच्चन को किडनैप क्यों किया ?
उत्तर : ये फिल्म फन्ने खां की स्क्रिप्ट के अनुसार हुआ। ये क्यों हुआ ये फिल्म देखकर ही पता चलेगा।
Continue Reading...

गुरुवार, 29 नवंबर 2018

आइफा अवॉर्ड्स 2018 के बारे में जानकारी

कोई टिप्पणी नहीं:

आइफा अवॉर्ड्स 2018 के बारे में जानकारी

22 जून 2018 से 24 जून 2018 को थाईलैंड में 19वे आइफा अवॉर्ड्स आयोजित किये गए। अवॉर्ड्स को होस्ट करन जौहर और रितेश देशमुख ने किया। ये अवॉर्ड्स बैंकाक के सयाम निरामित जगह पर आयोजित किये गए थे थाईलैंड में। 
iifa awards 2018 Hindi 365
आइफा अवॉर्ड्स 2018 में खींची गयी तस्वीर 

विजेताओं की सूचि नीचे दी गयी :
बेस्ट फिल्म - तुम्हारी सुल्लू 
बेस्ट डायरेक्टर - साकेत चौधरी (हिंदी मीडियम)
बेस्ट एक्टर (लीड ) - इरफ़ान खान (हिंदी मीडियम)
बेस्ट एक्ट्रेस (लीड ) - श्रीदेवी (मॉम )
बेस्ट एक्टर (सपोर्टिंग रोल) - नवाजुद्दीन सिद्दीकी (मॉम )
बेस्ट एक्ट्रेस (सपोर्टिंग रोल ) - मेहर विज (सीक्रेट सुपरस्टार)
बेस्ट स्टोरी - अमित मसूरकर (न्यूटन)
बेस्ट स्क्रीनप्ले - नितेश तिवारी (बरेली की बर्फी )
बेस्ट डेब्यू डायरेक्टर - कोनकना सेन शर्मा (अ डेथ इन द गूंज)

Advertisements



बेस्ट म्यूजिक डायरेक्टर - अमाल मलिक, तनिष्क बागची, अखिल सचदेवा (बद्रीनाथ की दुल्हनियां)
बेस्ट बैकग्राउंड स्कोर - प्रीतम (जग्गा जासूस)
बेस्ट मेल प्लेबैक सिंगर - अरिजीत सिंह (हवाएं - जब हैरी मेट सेजल)
बेस्ट फीमेल प्लेबैक सिंगर - मेघना मिश्रा (मैं कौन हूँ - सीक्रेट सुपरस्टार)
बेस्ट लिरिक्स - मनोज मुन्तशिर (मेरे रश्के कमल - बादशाहो )


  • IIFA : इंटरनेशनल इंडियन फिल्म अकादमी अवॉर्ड्स इन्हे बॉलीवुड का ऑस्कर कहा जाता है।  ये अवॉर्ड्स 2000 से शुरू हुए थे। 
  • आइफा वुमन ऑफ़ द ईयर 2018 इस बार श्रीदेवी को दिया गया है उनकी मॉम फिल्म के लिए।
Continue Reading...

एशिया कप के विजेताओं की सूचि

कोई टिप्पणी नहीं:

एशिया कप के विजेताओं की सूचि

आज के आर्टिकल में हमने अभी तक हुए क्रिकेट टूर्नामेंट एशिया कप के विजेताओं की सूचि तैयार की है। भारत अब तक 7 बार एशिया कप जीत चूका है दूसरे नंबर पर श्री लंका है। 
language map - Hindi 365
देखिये एशिया की किस जगह कौनसी भाषा ज्यादा बोली जाती है ?

एशिया कप 1984
विजेता टीम : भारत 
फर्स्ट रनर अप : श्रीलंका 
मेजवान देश : यूनाइटेड अरब अमीरात 

एशिया कप 1986 
विजेता टीम :  श्रीलंका 
फर्स्ट रनर अप : पाकिस्तान 
मेजवान देश : श्रीलंका 

एशिया कप 1988 
विजेता टीम :  भारत 
फर्स्ट रनर अप : श्री लंका 
मेजवान देश : बांग्लादेश 

एशिया कप 1990 - 91 
विजेता टीम :  भारत 
फर्स्ट रनर अप : श्री लंका 
मेजवान देश : भारत 

एशिया कप 1995 
विजेता टीम :  भारत 
फर्स्ट रनर अप : श्री लंका 
मेजवान देश : यूनाइटेड अरब अमीरात

एशिया कप 1997 
विजेता टीम :  श्री लंका 
फर्स्ट रनर अप : भारत 
मेजवान देश : श्री लंका 
मैच फॉर्मेट : ODI 

एशिया कप 2000 
विजेता टीम :  पाकिस्तान 
फर्स्ट रनर अप : श्री लंका 
मेजवान देश : बांग्लादेश
मैच फॉर्मेट : ODI 

एशिया कप 2004 
विजेता टीम :  श्री लंका 
फर्स्ट रनर अप : भारत 
मेजवान देश: श्री लंका 
मैच फॉर्मेट : ODI 

एशिया कप 2008 
विजेता टीम :  श्री लंका 
फर्स्ट रनर अप : भारत 
मेजवान देश: पाकिस्तान 
मैच फॉर्मेट : ODI 

एशिया कप 2010 
विजेता टीम :  भारत 
फर्स्ट रनर अप : श्री लंका 
मेजवान देश : श्री लंका 
मैच फॉर्मेट : ODI 

एशिया कप 2012 
विजेता टीम :  पाकिस्तान 
फर्स्ट रनर अप : बांग्लादेश 
मेजवान देश : बांग्लादेश 
मैच फॉर्मेट : ODI 

एशिया कप 2014 
विजेता टीम :  श्री लंका 
फर्स्ट रनर अप : पाकिस्तान 
मेजवान देश : बांग्लादेश 
मैच फॉर्मेट : ODI 

एशिया कप 2016 
विजेता टीम :  भारत 
फर्स्ट रनर अप : बांग्लादेश 
मेजवान देश: बांग्लादेश 
मैच फॉर्मेट : T20

एशिया कप 2018 
विजेता टीम :  भारत 
फर्स्ट रनर अप : बांग्लादेश 
मेजवान देश: यूनाइटेड अरब अमीरात 
मैच फॉर्मेट : ODI

एशिया कप से जुड़े कुछ प्रश्न ?
प्रश्न : एशिया कप के मैच कितने ओवर के होते हैं ?
उत्तर : एशिया कप में मैच 2 फॉर्मेट में होते हैं - ODI यानि एक दिवसीय मैच (50 ओवर ) और T20  यानि ट्वेंटी20(20 ओवर)  .


प्रश्न : सचिन तेंदुलकर ने एशिया कप में कितने मैच खेले हैं ?
उत्तर : सचिन तेंदुलकर ने 1990 से लेकर 2012 तक एशिया कप में 23 मैच खेले हैं। उन्होंने एशिया कप में कुल 971 रन बनाये हैं। 
Continue Reading...

एशिया कप से जुड़े कुछ प्रश्न

कोई टिप्पणी नहीं:

एशिया कप से जुड़े कुछ प्रश्न

एशिया कप क्रिकेट में होने वाला एक टूर्नामेंट है इसकी शुरुआत 1983 में हुई। आज हम एशिया कप से जुड़े आपके प्रश्नो का जवाब देंगे। 
प्रश्न : 2017 T20 एशिया कप की विजेता टीम कौन सी है ?
उत्तर : 2017 में एशिया कप के अंतर्गत T20 टूर्नामेंट आयोजित ही नहीं हुआ। एशिया कप में अभी तक पहला T20 क्रिकेट टूर्नामेंट फरबरी -मार्च 2016 में आयोजित हुए। ये मैच बांग्लादेश में आयोजित हुए थे। इनकी विजेता टीम भारत थी उन्होंने बांग्लादेश को हराकर ट्रॉफी जीती। 

प्रश्न : 2018 में हुए एक दिवसीय क्रिकेट एशिया कप टूर्नामेंट की विजेता टीम कौन सी है ?
उत्तर : भारत। ये मैच दुबई में आयोजित हुए थे। इंडिया ने 3 विकेट से बांग्लादेश को हरा दिया था फाइनल मैच में। इंडिया ने 7 विकेट के नुकसान पर 223 रन बनाये थे। लेकिन बांग्लादेश असमर्थ रहा और भारत ने एशिया कप 2018 की एक दिवसीय मैच की ट्रॉफी झटक ली। 

भारतीय क्रिकेट टीम एशिया कप 2018
भारतीय क्रिकेट टीम एशिया कप 2018 की ट्रॉफी उठाते हुए। 
प्रश्न : एशिया कप में अभी तक सबसे ज्यादा कुल रन किसने बनाये हैं ?
उत्तर : सबसे ज्यादा रन श्री लंका के खिलाडी सनथ जयसूर्या ने बनाये हैं उन्होंने खेले 25 मैचों में कुल 1220 रन बनाये। ये मैच उन्होंने 1990 - 2008 के बीच खेले। 
दूसरे नंबर पर श्रीलंका के कुमार संगकारा हैं 26 मैच में कुल 1075 रन के साथ.

प्रश्न : एशिया कप 2018 में जीतने वाली टीम को कितना प्राइज मिलता है ?
उत्तर : विजेता टीम भारत  को ट्रॉफी के साथ एक लाख अमेरिकी डॉलर का इनाम दिया गया था तथा दो नंबर पर आने वाली टीमबांग्लादेश को 50 हजार अमेरिकी डॉलर दिए गए  बाकि प्लेयर्स को अलग भी इनाम दिया जाता है जैसे शिखर धवन को मैन ऑफ़ द टूर्नामेंट बनने के लिए अलग से 15000 अमेरिकी डॉलर का इनाम दिया गया था। रोहित शर्मा को सबसे अधिक छक्के लगाने के लिए अलग से 5000 डॉलर का इनाम दिया गया था। 

प्रश्न : एशिया कप एक दिवसीय मैच ODI होता है या T20 ?
उत्तर : दोनों। ये टूर्नामेंट दोनों फॉर्मेट में आयोजित होता हैं। 

प्रश्न: अभी तक एशिया कप सबसे ज्यादा किस टीम ने जीता ?
उत्तर : भारत (7 बार ) 6 बार एक दिवसीय मैच और 1 बार T20 फॉर्मेट मैच। 

प्रश्न : हाल में हुए एशिया कप 2018 में कितने देशो ने हिस्सा लिया ?
उत्तर : 6 देश - अफ़ग़ानिस्तान, बांग्लादेश, भारत, पाकिस्तान, श्रीलंका व हांगकांग 

प्रश्न : भारत बनाम हांगकांग एशिया कप 2018 क्रिकेट मैच किस टीम ने जीता ?
उत्तर : भारत ने 26 रन से। भारत ने 285 रन बनाये थे 07 विकेट के नुकसान पर।

प्रश्न : एशिया कप 2018 में सुरेश रैना खेले या नहीं ?
उत्तर : नहीं। 
Continue Reading...

बुधवार, 28 नवंबर 2018

सिनेमा से जुड़े कुछ मिले झुले प्रशोत्तर

कोई टिप्पणी नहीं:

सिनेमा से जुड़े कुछ मिले झुले प्रशोत्तर

प्रश्न : अपना भी नसीबा क्या खूब मिला है - गाने में किस एक्ट्रेस ने काम किया है ?
उत्तर : ये गाना 1999 में आयी फिल्म होगी प्यार की जीत का है। इस गाने में जिस एक्ट्रेस को दिखाया गया है वो शबाना रजा(नेहा) हैं अब इन्होने नाम बदलकर नेहा बाजपेयी कर लिया है। ये एक्टर मनोज बाजपेयी की पत्नी हैं। इनके साथ इस गाने में अजय देवगन ने नृत्य किया है। 

नेहा बाजपेयी - Hindi 365
नेहा बाजपेयी - Hindi 365

प्रश्न :  गुरु रंधावा के इशारे तेरे गाने में किस एक्टर -एक्ट्रेस ने डांस किया है ?
उत्तर : इस गाने को खुद गुरु रंधावा और उनकी सह गायिका ध्वनि भानुशाली पर फिल्माया गया है। यही दोनों ने ये गया भी है। आजकल जिस तरह एक्टर अपने गाने खुद गा लेते हैं उसी तरह गायक अपने गानो में खुद से एक्ट करने लगे हैं। 

प्रश्न :अँखियों के झरोखे से गाने में कौन एक्ट्रेस है ?
उत्तर : 1978 में राजश्री प्रोडक्शन की एक फिल्म आयी थी जिसका नाम अँखियों के झरोखें से ही था। इस गाने में हीरो सचिन पिलगाओंकर को लिया गया है और रंजीता कौर एक्ट्रेस है 
Continue Reading...

अंतरिक्ष के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां

कोई टिप्पणी नहीं:

अंतरिक्ष के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां

प्रश्न :सबसे पहले अंतिरक्ष पहुँचने वाले यात्री किस देश के थे ?
उत्तर : 12 अप्रैल 1961 को रूस के यूरी गागरिन अंतरिक्ष में पहुंचने वाले प्रथम व्यक्ति बन गए थे। यह पहली मानव फ्लाइट थी अंतरिक्ष के लिए। 

यूरी गागरिन रूसी कॉस्मोनॉट - हिंदी 365
यूरी गागरिन रूसी कॉस्मोनॉट - हिंदी 365
इससे पहले 03 नवम्बर 1957 को रूस लाइका नामक कुत्ते को अंतरिक्ष में पहुंचा चुका था। ये फ्लाइट जिस पर इस कुत्ते को ले जाया गया था वो स्पुटनिक 2 नामक सैटेलाइट को ऑर्बिट में छोड़ने गयी थी। ऐसा बताया जाता है कि कुत्ते की मौत हो गयी थी इस यात्रा पर क्योंकि जिस केबिन में उसे रखा गया था वह चौथे ऑर्बिट तक पहुँचते पहुँचते काफी गरम हो गया था और कुत्ता इसको सह नहीं पाया था। वैसे भी उस सैटेलाइट का लांच व्हीकल पृथ्वी पर दुबारा सुरक्षित पहुंचने के लिए नहीं बनाया गया था।

प्रश्न : अंतरिक्ष यात्री के कपडे किसके बने होते हैं ?
उत्तर : अंतरिक्ष यात्री जो कपडे पहनते हैं वो सिर्फ कपडे नहीं बल्कि स्पेससूट होता है। स्पेस सूट अपने आप में एक सिंगल यात्री को छोटे स्पेसक्राफ्ट का फील देता है। स्पेससूट को इस तरह डिज़ाइन किया जाता है कि वह पहने हुए अंतरिक्ष यात्री को ठण्ड, विकीर्ण किरणों व अंतरिक्ष में पाए जाने वाली निम्न दाब से बचाता है। स्पेस सूट में साँस लेने के लिए ऑक्सीजन भी उपलब्ध रहती है। 
स्पेस स्टेशन में अंदर अंतरिक्ष यात्री नॉर्मल कॉटन के काफी सारे इनर कपडे लेकर प्रवेश करते हैं और पहनने के लिए कॉटन पेंट शर्ट लेकर जाते हैं। एक ही समस्या रहती हैं ऊपर कपडे धो नहीं सकते। इस्तेमाल करो और रख दो। 

प्रश्न : एक उपग्रह पर रहने वाले अंतरिक्ष यात्री की भारहीनता की क्या स्थिति होती है ?
उत्तर : ये उपग्रह पर निर्भर करता है कि वहां का वातावरण कैसा है जैसे चन्द्रमा की बात करें जो कि पृथ्वी का प्राकृतिक उपग्रह है। चन्द्रमा पर आपका वजन 16.5 किलोग्राम होगा यदि आपका भार पृथ्वी पर 100 किलोग्राम हैं यानि मात्र 16.5 प्रतिशत। ये गुरुत्व की वजह से होता है। 
Continue Reading...

मंगलवार, 27 नवंबर 2018

मन की बात से जुड़े कुछ प्रश्न

कोई टिप्पणी नहीं:

मन की बात से जुड़े कुछ प्रश्न

प्रश्न : मन की बात के कितने एपिसोड हो चुके हैं ?
उत्तर : 25 नवम्बर 2018 को प्रधानमंत्री के मन की बात देश के नाम सम्बोधन के 50 एपिसोड पूरे हो चुके हैं। 

प्रश्न : हाल ही में मन की बात रेडियो पर कब आया ?
उत्तर : 25 नवम्बर 2018 को 50वां एपिसोड 11 बजे शुरू हुआ। 

प्रश्न : मोबाइल पर फ्री मैं कहाँ देख सकते हैं ?
उत्तर : अगर आपके फ़ोन में इंटरनेट है तो इसे अनगिनत जगहों पर अपलोड किया जाता है। मन की बात की आधिकारिक वेबसाइट PMONRADIO.NIC.IN हैं। आप यहाँ पर भी देख सकते हैं। इसे नमो एप पर भी दिखाया जाता है। फेसबुक यूट्यूब पर देख सकते हैं। बस मन की बात लिख कर सर्च करो। 

प्रश्न : आधिकारिक रूप से मन की बात कौन कौन से चैनल पर दिखाया जाता है ?
उत्तर : इसे आधिकारिक रूप से आल इंडिया रेडियो, डीडी नेशनल और डीडी न्यूज़ पर दिखाया जाता है लेकिन सभी न्यूज़ चैनल इनसे राइट्स लेकर अपने न्यूज़ चैनल पर भी ये दिखाते हैं। 

मन की बात - Hindi 365
मन की बात - Hindi 365
प्रश्न : किस बाहरी देश के राष्ट्रपति ने नरेंद्र मोदी के साथ मन की बात का मंच साझा किया है ?
उत्तर : 27 जनवरी 2015 में आये मन की बात के स्पेशल एपिसोड में भारत आये हुए अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने मन की बात चर्चा में हिस्सा लिया और अपने विचार देश के साथ साझा किये। ये पहले बाहरी इस कद के व्यक्ति हैं जिन्होंने मन की बात में हिस्सा लिया। दरअसल ओबामा गणतंत्र दिवस के मौके पर भारत आये हुए थे। तो मोदी जी ने उन्हें भी मन की बात में आमंत्रित कर लिया फिर दोनों ने बैठकर देशवासियों के साथ विचार साझे किये। 
Continue Reading...

कल्पना चावला के बारे में जानकारी

कोई टिप्पणी नहीं:

कल्पना चावला के बारे में जानकारी

आज हर कोई मां बाप अपनी बेटी को कल्पना चावला की मिशाल देते हैं। कल्पना चावला का नाम सबने ही सुना होगा। ये भारत के राज्य हरियाणा की बेटी सिर्फ 40 साल के जीवन में अपना नाम विश्व में अमर कर गयी। आज आपको कल्पना चावला के बारे में विस्तार से बताने की कोशिश करेगी Hindi 365

कल्पना चावला कोलंबिया स्पेस शटल में बैठी हुए। हिंदी 365
कल्पना चावला कोलंबिया स्पेस शटल में बैठी हुए। हिंदी 365
कल्पना चावला एक अमेरिकन अंतरिक्ष यात्री थीं। और 17 नवम्बर 1997 को  वह पहली भारतीय महिला थीं जो अंतरिक्ष पहुंची। आपको बता दूँ वो एक बार नहीं बल्कि 2 बार अंतरिक्ष में गयी थी एक बार 1997 में और फिर दूसरी बार 2003 में। उनका नाम कल्पना चावला था लेकिन अमेरिका में अधिकतर लोग उन्हें केसी कहकर बुलाते थे।

कल्पना चावला का जन्म 17 मार्च 1962 को हरियाणा के करनाल जगह में हुआ था। उनका औपचारिक जन्म तिथि बदल कर 01 जुलाई 1961 करना पड़ा क्योंकि वो दसवीं के पेपर नहीं दे पा रही थी। उन्होंने पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज चडीगढ़ से एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग की उसके बाद 1982 में वो अमेरिका चली गयी जन्म के कुछ 20 साल बाद। वहां पर उन्होंने 1984 में टेक्सास विश्वविद्यालय से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में मास्टर्स कर लिया। और उन्होंने उसके बाद 1988 में एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में कोलराडो यूनिवर्सिटी से डॉक्टरेट कर ली।
कल्पना चावला ने 1983 में फ्लाइंग इंस्ट्रक्टर और हवाई लेखक जीन पिएरे हैरिसन से लव मैरिज कर ली। हैरिसन से वो अमेरिका पहुँचने एक अगले दिन अर्लिंग्टन में ही मिली थी। 
1991 में उन्हें अमेरिका की नागरिकता मिल गयी। उसके बाद केसी ने नासा एस्ट्रोनॉट कॉर्प्स के लिए अप्लाई कर दिया। इससे ही एस्ट्रोनॉट सेलेक्ट करता है अमेरिकी संसथान नासा।मार्च 1995 में उनकी जोइनिंग हो गयी और 1996 में उनकी पहली फ्लाइट हुई। 
उसके बाद 1997 में वो पहली बार स्पेस शटल कोलंबिया से अंतरिक्ष में गयी। उनका काम था रोबोटिक आर्म को चलाना और उसको मॉनिटर करना। ये सब कम्प्यूटर के माध्यम से ऑपरेट होता था। एस्ट्रोनॉट बनने से पहले कल्पना छोटे छोटे शटल पर इस तरह के शोध कर रही थी नासा के एक दूसरे विभाग में।जब वो पहली बार स्पेस में गयीं तो करीब 15 दिन 12 घंटे अंतरिक्ष मैँ रहीं। 

उसके बाद 2003 में वो फिर से कोलम्बिआ शटल के 7 लोगों के क्रू में चुनी गयी। 16 जनवरी 2003 को वो फिर से स्पेस शटल कोलंबिया(STS-107) से अंतरिक्ष में दाखिल हुई। शटल में कुछ तकनीकी खराबी आ गयी। तो उनके शोध ट्रिप को छोटा कर दिया गया ये 28 वां कोलंबिया शटल अभियान था। 01 फरबरी 2003 को 15 दिन 2 घंटे और 54 मिनट अंतरिक्ष में बिताने के बाद जब कोलंबिया शटल घर पहुँचने वाला ही था। उस तकनीकी खराबी के कारण पृथ्वी के वायुमंडल में घुसने के बाद शटल ने आग पकड़ ली। और 7 के 7 क्रू हमेशा के लिए हमसे दूर चले गए. पूरे विश्व के लिए बहुत ही बेकार दिन था ये। 
kalpana chawla easy sketch - Hindi365
कल्पना चावला स्केच 
कल्पना चावला से जुड़े कुछ अन्य प्रश्न :

प्रश्न : नासा ने एसजीआई अलटिक्स 3000 अपने सुपरकम्प्यूटर को किस एस्ट्रोनॉट का नाम दिया था ?
उत्तर : कल्पना का स्पेस में योगदान देखते हुए और कल्पना का कम्प्यूटरों में इंटरेस्ट को देखते हुए नासा ने 2004 में लगने वाले नासा एमेस रिसर्च सेंटर में लगने वाले सुपर कंप्यूटर को कल्पना चावला केसी नाम दिया। 

प्रश्न : कल्पना चावला की शादी किससे हुई थी ?
उत्तर : जेपी हैरिसन से। 

प्रश्न : क्या कल्पना चावला ने शटल से 'सारे जहाँ से अच्छा हिन्दोस्ता हमारा' गया था ?
उत्तर : भारतीय होने के नाते वो ऐसा सोचती तो जरूर होंगी लेकिन ये उन्होंने नहीं गाया था बल्कि जब इंदिरा गाँधी और राकेश शर्मा की बातचीत हुई थीं तो राकेश शर्मा को जब इंदिरा गाँधी ने पूछा था कि स्पेस से भारत कैसा दिखता है तो राकेश शर्मा ने बताया था - 'मैं बगैर किस झिझक के कह सकता हूँ सारे जहां से अच्छा'
Continue Reading...

सोमवार, 26 नवंबर 2018

क्या थाने की पुलिस चालान काट सकती है या नहीं ?

कोई टिप्पणी नहीं:

क्या थाने की पुलिस चालान काट सकती है या नहीं ?

आज के भ्रस्टाचार भरे समय में कानून की थोड़ी बहुत समझ हर किसी को होनी चाहिए। क़ानूनी बातें संग्रह ऐसी की कुछ बातों का संग्रह है जहाँ पर हमने कानूनी बातों को थोड़ा स्पष्ट करके लिखा है। कोशिश यही है कि अगर आप जागरूक होंगे तो आप पुलिस से अच्छे से पेश आएंगे और पुलिस भी आपसे अच्छे से पेश आएगी।

पुलिस कार ड्राइवर पर कार्यवाई करती हुई। 
हमारे एक पाठक ने हमसे ये सवाल पूछा है कि सामान्य खाकी वर्दी वाली पुलिस चालान काट सकती है या नहीं उनका मानना है कि चालान काटने के लिए तो ट्रैफिक पुलिस बनायीं है जो सफ़ेद यूनिफार्म पहनती है। तो मैं उनको ये बताना चाहता हूँ कि वाकई ट्रैफिक पुलिस का काम चालान काटना है। मोटर व्हीकल एक्ट को ढंग से लागू करने के लिए ट्रैफिक पुलिस का गठन किया जाता है।
लेकिन आप को ये जरूर समझ लेना चाहिए कि खाकी वर्दी और सफ़ेद वर्दी में रहते दोनों पुलिस वाले ही हैं। और अगर आपको पुलिस के रैंक की जानकारी होगी तो रैंक भी समान ही रहते हैं। फर्क सिर्फ इतना है कि जिम्मेदारियों को बाटने के लिए दो विभाग बना दिए गए है। लेकिन ये दोनों विभाग सहायक विभाग होते हैं. जरुरत पड़ने पर एक दूसरे की मदद कर सकते हैं। 

Advertisements



अब आपके प्रश्न का उत्तर ये है कि कोई भी पुलिस वाला चाहे वो खाकी ही क्यों न पहना हो चालान काट सकता है। क्यूंकि यदि आप तेज गाड़ी चला रहे हैं तो उसे आपको रोकने का अधिकार है इससे पहले कि आप किसी को ऊपर पहुंचा दें। रेड अलर्ट जारी होने पर भी वो आपके कार की चेकिंग कर सकते हैं और शक होने पर आपको रोक भी सकते हैं। लेकिन घबराये नहीं। इससे ज्यादा वो अगर आप सही हैं तो कुछ नहीं करेंगे। 
इस बात को आप ऐसे समझ लीजिये यदि कोई व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को ट्रैफिक पुलिस के सामने यदि गोली मार रहा है तो ट्रैफिक पुलिस को ये रोकना चाहिए या नहीं। ट्रैफिक पुलिस बोल सकती है कि ये तो दूसरी पुलिस का काम हैं लेकिन ऐसा नहीं है ट्रैफिक पुलिस भी उस समय उस व्यक्ति की मदद करेगी और गोली चलाने वाले व्यक्ति पर काबू पाने की कोशिश करेगी। आशा है आप समझ गए होंगे कि दोनों पुलिस वक्त आने पर अन्य का काम कर सकते हैं।
कुछ और महत्वपूर्ण जानकारी पढ़ने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करो 
Continue Reading...

कैसे पहुँचते हैं अंतरिक्ष यात्री पृथ्वी से इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन?

कोई टिप्पणी नहीं:

कैसे पहुँचते हैं अंतरिक्ष यात्री पृथ्वी से इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन?

लोग हवाई जहाज में उड़ने के ख्वाब देखते रहते हैं। स्पेसक्राफ्ट में घूमना तो बहुत बड़ी बात है लेकिन कोई बात इतनी भी बड़ी नहीं होती। क्या पता कभी कोई इस पोस्ट को पढ़ने वाला ही अंतरिक्ष में चला जाये। कोई नहीं जानता कल क्या होगा? आज में आपको बताऊंगा कि एस्ट्रोनॉट पृथ्वी से अंतरिक्ष में हमारे स्पेस स्टेशन पहुंचते कैसे हैं ?
सोयुज यान में अंतरिक्ष यात्री - हिंदी 365
सोयुज यान में अंतरिक्ष यात्री - हिंदी 365 
दरअसल अंतरिक्ष में जो स्पेस स्टेशन है उस पर हर समय 3 -  6 लोग रहते हैं। ये लोग हर छह महीने बदलते रहते हैं। हर तीन महीने पर पृथ्वी से एक सोयुज यान छोड़ा जाता है अंतरिक्ष के लिए। इस सोयुज कैप्सूल में बैठकर नए लोग पृथ्वी से स्पेस स्टेशन पहुँचते हैं। 
ये सोयुज रूस के कजाखस्तान से प्रक्षेपित किये जाते हैं। सोयुज में एस्ट्रोनॉट के अलावा खाने की सप्लाई और स्टेशन की जरुरत वाली वस्तुएं भी भेजी जाती हैं। अमेरिका, रूस, जापान और यूरोप सभी के अंतरिक्ष यात्री इस रुसी यान सोयूज़ से ही अंतरिक्ष में पहुँचते हैं। ये अब लगभग 6 घंटे में अंतरिक्ष यात्री को पृथ्वी से स्पेस स्टेशन पर पहुंचा देता है। 
हर एक क्रू मेंबर 6 महीने तक स्टेशन पर रहकर आता है। हर तीन महीने पर तीन नए सदस्यपृथ्वी से स्टेशन और तीन पुराने सदस्य  स्टेशन से पृथ्वी आ जाते है।  बाकी तीन पुराने सदस्य नए सदस्यों को वहां चल रहा सारा काम समझाकर और पूरा हैंडओवर करके अगले त्रि मासिक सोयुज  ट्रिप से नीचे आ जाते हैं। 
इस तरह हर समय कम से कम तीन अथवा 6 लोग स्टेशन पर बने रहते हैं। और ये कार्यक्रम जारी रहता है। 

अब आपको प्रश्न आया होगा कि लोग वापस कैसे आते हैं ?
लोग वापस भी सोयुज में बैठकर ही पृथ्वी पर पहुंचते हैं। सोयूज़ विमान को इसि काम के लिए स्पेशली रखा गया है। पृथ्वी से स्पेस और स्पेस से पृथ्वी। और हाँ हर बार नया सोयुज ही पृथ्वी से स्पेस जाता है। इसका पून: इस्तेमाल नहीं किया जाता। 
Continue Reading...

रविवार, 25 नवंबर 2018

अगर ये भी फेल होकर आज इतने ऊँचे पद पर हैं तो आप भी हो सकते हैं

कोई टिप्पणी नहीं:

अगर ये भी फेल होकर आज इतने ऊँचे पद पर हैं तो आप भी हो सकते हैं 

आज हम आपको बताएँगे कि किस तरह विश्व विख्यात लोग जैसे अमिताभ बच्चन, लीओन मैसी, टोनी ब्लेयर, अब्दुल कलाम, थॉमस अल्वा एडिशन इत्यादि लोगो को भी काफी संघर्ष करना पड़ा उसके बाद भी वो अपनी मंजिलों पर पहुंचे क्योंकि उन्होंने हार नहीं मानी बल्कि चलते गए। इनकी प्रेरणा दायी बातों के बारे में जानेंगे आज। 
मोटिवेशन (प्रेरणा) - Hindi 365
मोटिवेशन (प्रेरणा) - Hindi 365
  • अमिताभ बच्चन ऑल इंडिया रेडियो में इंटरव्यू देने गए थे लेकिन उनकी आवाज भारी है ये कहकर उन्हें रिजेक्ट कर दिया गया था। 
  • सचिन तेंदुलकर आठवीं कक्षा में फेल हो गए थे। 
  • अब्दुल कलाम पायलट के इंटरव्यू में फेल हो गए थे। 
  • बिल गेट्स अपनी यूनिवर्सिटी पढाई पूरी नहीं कर पाए थे। उन्हें ड्राप करना पड़ा 
  • धीरूभाई अंबानी पेट्रोल पंप पर काम करते थे। 
  • माइकल जॉर्डन को स्कूल की बास्केटबॉल टीम से निकाल दिया गया था। 
  • स्टीव जॉब्स अपने दोस्तों के रूम में फर्श पर सोया करते थे। और कई बार लोकल टेम्पल में जाकर फ्री खाना ख़ाते थे। 
  • लीओन मैसी अपनी फुटबॉल ट्रेनिंग की फीस भरने के लिए एक दुकान पर चाय सर्व करते थे। 
  • टोनी ब्लेयर को उनके टीचर फैलियर कह कर बुलाते थे। 
  • अल्बर्ट आइंस्टीन को उनके टीचर मानसिक रूप से विकलांग मानते थे क्यूंकि 4 साल तक वो बोल ही नहीं पाते थे उन्होंने 07 साल का होने पर पढ़ना सीखा। 
  • हैरी पॉटर नॉवेल की लेखिका जे के रोलिंग को 12 बार पब्लिशर्स ने रिजेक्ट कर दिया था। 
  • सिल्वेस्टर स्टैलोन को करीब 1500 बार रिजेक्ट किया गया जब वो अपनी मशहूर रॉकी फिल्म की स्क्रिप्ट और खुद को उसके लिए बेचने का प्रयास कर रहे थे। 
  • एक सही बल्ब बनाने से पहले थॉमस अल्वा एडिशन 10000 ऐसे तरीके पता कर चुके थे जिनसे सही बल्ब नहीं बनेगा। 
  • विंस्टन चर्चिल जो क़ी 62 साल की उम्र में प्रधानमंत्री बने वह छठी क्लास में फेल हो गए थे। उसके बार काफी बार राजनीतिक हार देखी लेकिन रुके नहीं और अंत में प्रधानमंत्री बने।
इन सब लोगो में एक कई चीजे कॉमन हैं : कोई असफलता से रुका नहीं। आज सभी मशहूर हैं। शायद यदि इन्हे पहले ही सफलता मिल जाती तो इतने बड़े नहीं बन पाते। तो ये बात सच है जो होता है अच्छे के लिए ही होता है। इसलिए फेल होने से घबराओ मत लड़ो और आगे बढ़ो। ये सिर्फ कुछ उदाहरण हैं। हो सकता है कल आपका भी कोई उदाहरण दे। वक्त बदलने में समय नहीं लगता। रुको मत सिर्फ अच्छी नीयत के साथ बढ़ते रहो। अच्छा लगा हो तो शेयर करना न भूलें। 
Continue Reading...

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुड़े कुछ सवाल और उनके जवाब

कोई टिप्पणी नहीं:

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुड़े कुछ सवाल और उनके जवाब

भारत के सभी निवासी नरेंद्र मोदी जी के बारे में जानने के काफी उत्सुक रहते है। इसलिए हमने हिंदी365 पर इसके लिए एक आर्टिकल लिखने का सोचा ताकि आप लोगों के कुछ प्रश्नो का जवाब दे सके।

भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी Hindi 365
भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी Hindi 365

प्रश्न : मोदी वर्ष 2018 में भोपाल में कब आये ?
उत्तर : 25 सितम्बर 2018 को प्रधानमंत्री मोदी ने भोपाल पहुंचकर कार्यकर्ता महाकुम्भ रैली को सम्बोधित किया। दरअसल मध्यप्रदेश में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं इस साल के अंत में इसलिए मध्य प्रदेश में काफी रैलियों का आयोजन हो रहा है। 25 सितम्बर को पंडित दीन दयाल उपाध्याय की जयंती होती है इसलिए उन्होंने रैली के सम्बोधन की शुरुआत उनका नाम लेकर ही की। 

प्रश्न :  2015 में नरेंद्र मोदी ने किस राज्य से बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना की घोषणा कर शुरुआत की ?
उत्तर : 22 जनवरी 2015 को इस स्कीम की शुरुआत हरियाणा राज्य के पानीपत शहर से घोषणा करके हुई। इस योजना का उद्देश्य लिंगानुपात को सही करना व लड़की से होने वाले भेदभाव को दूर कर के उन्हें सशक्त बनाना है। 

प्रश्न : नरेंद्र मोदी जी की मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा में कब रैली है ?
उतर : 18 नवम्बर 2018 को। 

प्रश्न : चैंपियन ऑफ़ अर्थ नामक अवॉर्ड नरेंद्र मोदी के अलावा और किसे मिला ?
उत्तर : 26 सितम्बर 2018  को यूनाइटेड नेशन यानि संयुक्त राष्ट्र ने इस अवॉर्ड के विजेताओं की घोषणा की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ये अवॉर्ड जॉइंटली फ्रांस के राष्ट्रपति इमेनुएल मैक्रॉन के साथ मिला है। यह पर्यावरण के क्षेत्र में उच्चतम अवॉर्ड है। नरेंद्र मोदी जी को सौर ऊर्जा के इस्तेमाल को बढ़ावा देने के लिए और पर्यावरण सम्बंधित बाहरी देशो से अच्छे सम्बन्ध बढ़ाने के लिए दिया गया है। मोदी जी ने एक समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं कि वह 2022 तक एक बार इस्तेमाल होने वाले प्लास्टिक के इस्तेमाल को खत्म कर देंगे। 
Continue Reading...

स्प्लिट्सविला 11 के वूट पर आये प्रोमो में कौन से गानों का इस्तेमाल किया गया ?

कोई टिप्पणी नहीं:

स्प्लिट्सविला 11 के वूट पर आये प्रोमो में कौन से गानों का इस्तेमाल किया गया ?

तो आइए आपको बताते हैं स्प्लिट्सविला 11 से जुड़े प्रोमो के गानों के बारे में जो इस प्रोमो वीडियो में इस्तेमाल किये गए हैं। यह शो सनी लिओनी और रणविजय होस्ट कर रहे हैं। और इसमें विभिन्न स्टेट से आये हुए लड़के लड़किया हिस्सा लेंगे और अपने पार्टनर खोजने की कोशिश करेंगे। 

रण एवं सनी - हिंदी 365
रण एवं सनी - हिंदी 365 
इस शो का ये ग्यारहवां सीजन है इसमें निम्न गाने इस्तेमाल किये गए :
1 तुझको जो पाया,आहा तो जीना आया 
2. बेबी को बेस पसंद है 
3. जो मेरी मंजिलो को जाती है तेरे नाम की कोई सड़क है न 

तो ऊपर दिए गए ये तीन गाने प्रोमो वीडियो जो कि वूट एप पर रिलीज़ हुआ उसमे इस्तेमाल किये गए हैं। स्प्लिट्सविला 11 के किस्से सीरीज़ में इस तरह के आपके काफी प्रश्नो का उत्तर आप तक पहुँचाते रहेंगे।

एक नई चीज के बारे में भी रणविजय ने बताया जो स्प्लिट्सविला में पहली बार हो रही है और वह है - सीक्रेट सेशन विद ओरेकल। ओरेकल से अकेले में बात करने का कुछ प्रतिभागियों को मौका मिलेगा इसके तहत।  
Continue Reading...

किस शैवाल का इस्तेमाल अंतरिक्ष यात्री खाने के रूप में करते हैं ?

कोई टिप्पणी नहीं:

किस शैवाल का इस्तेमाल अंतरिक्ष यात्री खाने के रूप में करते हैं ?

आइये आज आपको बताता हूँ कि अंतरिक्ष में अपने स्पेस स्टेशन में बैठे हुए अंतरिक्ष यात्री किस तरह का खाना खाते हैं ? काफी रोचक जानकारी है ये घर से इतने दूर डेली फ्रेश खाना तो नहीं पहुँच सकता फिर क्या खाते हैं ये लोग ?
सुनीता विलियम्स Hindi365
सुनीता विलियम्स अपने सह अंतरिक्ष यात्री के मिखेल टूरियन के साथ कुछ पीती हुई। 
एस्ट्रोनॉट (अंतरिक्ष यात्री) हमारे जैसा नॉर्मल फ़ूड तो नहीं खाते हैं लेकिन बहुत अलग भी नहीं। एस्ट्रोनॉट सूखा और फ्रीज किया हुआ खाना खाते हैं।  और ऐसा खाना जो कि प्रिज़र्वड कंडीशन में होता है क्योंकि खाना प्रतिदिन पृथ्वी से स्पेस स्टेशन नहीं जाता। ये सिर्फ कुछ फालतू एडवर्टाइजमेन्ट में ही दिखाया जा सकता है :-p 

तो खाने के लिए वहां रेफ्रिजरेटेड फ्रूट्स रहते हैं। जूसेज रहते हैं और जो सूखी वस्तुएं रहती हैं उनमे पैकेट में ही पहले पानी डाल कर खाने योग्य बना लेते हैं। आज के समय में वहां पर ज्यादातर वैरायटी भरी वस्तुए उपलब्ध कराने की कोशिश की जाती है लेकिन ऐसी कोई वस्तु नहीं ले जाई जाती जिसका अवशेष ज्यादा निकले। या फिर वो एस्ट्रोनॉट को वहां की कंडीशंस में नुकसान पहुचाये। वहां पर सभी स्पेस फ्रेंडली पदार्थ ही ले जाये जाते हैं। 
खाने के पैक किए हुए पदार्थ में गरम पानी डालकर, गरमा गरम वस्तुओं का आनंद लिया जाता है। नमक और मिर्च भी पाउडर फॉर्म में नहीं ले जाते क्यूंकि किसी के आंख नांक में ये पदार्थ जा सकते खाने में मिलाते वक्त। और वहां पर सूखा नमक और मिर्च पाउडर अच्छी तरह से खाने में मिलेगा भी नहीं वह सिर्फ तैरता रहेगा। इसलिए नमक और मिर्च भी तरल अवस्था में ले जाते हैं।
खाने में शैवाल की बात करें तो ये अभी एक्सपेरिमेंटल है लेकिन इसका प्रयोग किया जा सकता है। स्प्रोलिना नामक शैवाल को अंतरिक्ष में इस्तेमाल किया जा चुका है। इनका सबसे बड़ा फायदा ये होता है कि ये कार्बन डाई ऑक्साइड को सोख कर ऑक्सीजन बना देते हैं। यह एक्सपेरिमेंटल रहा है। इसे फ़ूड के तौर पर दिया जा सकता है।
Continue Reading...

अंतरिक्ष यात्री को आकाश काला क्यों दिखाई देता है ?

कोई टिप्पणी नहीं:

अंतरिक्ष यात्री को आकाश काला क्यों दिखाई देता है ?

यह प्रश्न कई बार सुनने में आता है इसलिए सोचा कि इस पर लिखूं और समझाऊं आप सभी को कि ऐसा क्यों व कैसे होता है ?
काला आसमान और अंतरिक्ष यात्री - Hindi365
काला आसमान और अंतरिक्ष यात्री - Hindi365
दरअसल आपको लगता होगा कि पृथ्वी पर तो आसमान का रंग नीला होता है लेकिन अंतरिक्ष यात्री को फिर आसमान काला क्यों दिखाई देता है? दरअसल मैं आपके भ्रम को थोड़ा सा दूर कर दूँ। ये जो आसमान का कलर आपको नीला दिखाई देता है वो दरअसल नीला नहीं बल्कि काला ही है। क्यूंकि अगर रंग नीला होता तो रात को आसमान काला दिखाई देता ही नहीं। शायद थोड़ा समझ आया होगा आपको। 
कोई बात नहीं पूरा समझा के ही छोड़ेंगे आपको आज। दरअसल ये दिन में जो आपको इस बादल क रंग नीला दिखाई देता है इसका कारण हैं सूर्य की रौशनी का पृथ्वी के उस हिस्से पर पड़ना। अब आपको समझ आएगा कि अगर इंडिया में किसी समय दिन है तो यहाँ पर आसमान नीला दिखाई देता है लेकिन उसी समय अगर आप अमेरिका में किसी जगह फोन करके पूछेंगे तो आपको पता चलेगा कि वहां पर आसमान काला ही दिख रहा है। तो जो चीज बदल रही है वह है सिर्फ सूरज से आती रौशनी। इसलिए पृथ्वी के जिस हिस्से पर रौशनी पड़ती है उस हिस्से पर आसमान नीला दिखाई पड़ता है और दूसरे हिस्से पर काला लेकिन उसका वास्तविक रंग काला ही है। 
दिन में क्यों दिखाई देता है आसमान नीला ?
क्योंकि पृथ्वी पर आने वाली सूर्य की रौशनी भरी किरणे पृथ्वी के ऊपर बनी पर्यावरण की परतो को पार करके नीचे पहुँचती हैं। प्रकाश की ये किरणे पर्यावरण के विभिन्न छोटे अणुओं से टकराकर बिखर जाती हैं और बिखरनी पर हमें नीला रंग इसलिए उस रौशनी का दिखता है क्योंकि नीले रंग की आवृति सबसे ज्यादा होती है। इसी वजह से जब सूर्यास्त या सूर्योदय के समय प्रकाश की रौशनी हमसे दूर जाने लगती है तो बड़ी तरंग धैर्य वाला कलर हमें नजर आने लगता है और आसमान हल्का लाल नजर आने लगता है। तो ये आसमान का रंग तो सिर्फ काला ही है लेकिन पृथ्वी का मौजूदा वातवरण और ये प्रकाश की उपस्थिति आसमान को नीला दिखाती है दिन में। 
अंतरिक्ष यहाँ से और ऊपर से बहुत कुछ अलग नजर नहीं आता। हमें भी रात को आसमान काला ही दिखाई देता है। 

अब जानते हैं इस विषय की मैन वजह। अंतरिक्ष यात्री को आसमान काला इसलिए दिखाई देता है क्योंकि वहां पर पृथ्वी जैसा कोई वातावरण नहीं है जो सूर्य या अन्य किसी तारे से आने वाली प्रकाश किरण को बिखेरे। प्रकाश के बिखरने से ही रंग पैदा होता है।  इसी वजह से यहाँ पर हर समय आसमान काला ही नजर आता है। अगर आपने चन्द्रमा के ऊपर खींची गयी फोटो कभी देखी होंगी तो आप उनमे पाएंगे की सभी फोटो में आसमान काला ही दिखाई दे रहा है। 

अब मुझे लगता है आपको सही से समझ आ गया होगा। शेयर जरूर करें ताकि यह अच्छी जानकारी सब तक पहुंचे। 
Continue Reading...

स्टीकर पैक नेम और स्टीकर पैक ऑथर का क्या मतलब है?

कोई टिप्पणी नहीं:

स्टीकर पैक नेम और स्टीकर पैक ऑथर का क्या मतलब है?

अगर आप व्हाट्सएप प्रो हैं तो शायद इन दोनों टर्म्स का मतलब शायद आपको पता होगा लेकिन अगर नहीं तो कोई बात नहीं। Hindi365 आपको आज बताएगी स्टीकर पैक नेम और स्टीकर पैक ऑथर क्या होता है ?

व्हाट्सएप स्टीकर पैक इमेज क्रेडिट : इंडियन एक्सप्रेस 
दरअसल एक दौर था जब एसएमएस का दौर था फिर व्हाट्सएप का दौर आया और एसएमएस में गिरावट आ गयी। समय के साथ साथ लोगों का एक्सप्रेस करने का तरीका बदलता रहता हैं। व्हाट्सएप में पहले इमोटिकॉन्स से ही काम चल जाता था। लोगों को बहुत सारे इमोटिकॉन्स का मतलब भी नहीं पता होता है लेकिन कई बार फिर भी लोग उनका अपनी भावना व्यक्त करने के लिए इस्तेमाल होता है। 
इमोटिकॉन्स का फायदा क्या होता है ?
क्या कभी सोचा है लोग लिखने की बजाय इमोटिकॉन्स का इस्तेमाल क्यों करते हैं। वो इसलिए किया जाता है कि एक छोटा सा इमोटिकॉन काफी बड़ी बात कह देता है। काफी बड़ी बड़ी बातें बता देते हैं आपके इमोटिकॉन्स। 

इमोटिकॉन्स के बाद स्टीकर्स का जमाना आया और जरुरत उससे भी पूरी नहीं हो पायी तो उसके बाद आया है कस्टम स्टीकर्स जिससे ये दोनों टर्म्स स्टीकर पैक नेम और स्टीकर पैक ऑथर जुड़े हुए हैं। 
दरअसल हाल ही में एक एंड्रॉइड एप आयी है जिसका नाम है -'स्टीकर मेकर फॉर व्हाट्सएप '.  इस एप के जरिये आप अपने कस्टम स्टीकर बना कर व्हाट्सएप पर इस्तेमाल कर सकते है। इसके लिए जो स्टीकर पैक का नाम आप इसमें डालते हैं उसे स्टीकर पैक नेम कहते हैं और जो स्टीकर बनाता है उसका नाम स्टीकर पैक ऑथर कहलाता है। 

ऊपर दिए गए फोटो से आईडिया हो गया होगा कि यह कैसे काम करता है। एक बार आपका स्टीकर पैक बन जाता है उसके बाद आप अपने खुद के बनाये हुए स्टीकर भी व्हाट्सएप में इस्तेमाल कर सकते हैं। 
Continue Reading...

किताबों और उनके लेखकों से जुड़े प्रश्न

कोई टिप्पणी नहीं:

किताबों और उनके लेखकों से जुड़े प्रश्न

इस आर्टिकल में हिंदी365 आपसे किताबों और उनके लेखक लेखिकाओं के बारे में जानकारी देने की कोशिश करेंगे। इसमें काफी पुस्तकों और काफी लेखक लेखिकाओं का जिक्र आएगा। 

कलम दवात - हिंदी365
कलम दवात - हिंदी365
प्रश्न : सुकरात जीवनी के लेखक कौन हैं ?
उत्तर : सुकरात इतने महान व्यक्ति थे कि लोगों ने उन पर कई पुस्तकें लिख दी हैं जो इस प्रकार है। आप खुद डिसाइड करें आपको कौन सी पढ़नी है ;
1. हमारा सुकरात - शुक्राचार्य 
2. सुकरात - अरुण तिवारी 
3. सुकरात - राजीव सिंह 
4. सुकरात एरिस्टोटल & प्लेटो(अंग्रेजी ) - ले मेनो - ई. हबर्ड इत्यादि 

प्रश्न : क्या सुकरात ने कभी खुद कोई पुस्तक लिखी ?
उत्तर : सुकरात ने खुद पुस्तकें नहीं लिखी। जो भी उनके बारे में आज हमें पुस्तकें लिखी है वह और लोगों द्वारा लिखी गयी है। ज्यादातर उनके शिष्य प्लेटो ने उनके बारे में लिखा है जो आजकल सभी बुक्स में छपा मिलता है। 

प्रश्न : सुकरात के डॉयलोग्स क्या हैं ?
उत्तर : ये प्लेटो और ज़ेनोफोन द्वारा लिखे गए उनके सुकरात के साथ की गयी बातचीत का संग्रह है। प्लेटो ने इन्हे सुकरात के डॉयलोग्स कहा है। 

प्रश्न : We Nehrus वी नेहरूज नामक पुस्तक किसने लिखी ?
उत्तर : यह पुस्तक कृष्णा नेहरू हूटीसीइंग ने लिखी है। ये पुस्तक नेहरू ख़ानदान के बारे में है। यह भूतपूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की छोटी बहन ने लिखी है। 

प्रश्न : युगपुरुष जयप्रकाश नारायण पर पुस्तक किसने लिखी ?
उत्तर : उमाशंकर वर्मा 


प्रश्न : जहाँ डाल डाल पर सोने की चिड़िया करती है बसेरा - गीत किसने लिखा ?
उत्तर : राजेंद्र कृष्ण 
यह गाना सिकंदर- ए - आजम फिल्म में मोहम्मद रफ़ी ने गाया था। इसे राजेंद्र कृष्ण ने लिखा। और हंसराज बहल ने संगीत दिया। 
Continue Reading...

शनिवार, 24 नवंबर 2018

अनिल अंबानी के बारे में जानकारी

कोई टिप्पणी नहीं:

अनिल अंबानी के बारे में जानकारी

भारत में ऐसी कोनसी फैमिली है जिसने अम्बानी फॅमिली का नाम नहीं सुना होगा। इस बिज़नेस मेन को हर कोई जानता है रिलायंस कम्युनिकेशन के जरिये। क्या सिर्फ रिलायंस कम्युनिकेशन ही है अनिल के पास? आइये आज जानते है अनिल अम्बानी के पास क्या क्या बिजनेस हैं ?

अनिल अंबानी - हिंदी365
अनिल अंबानी - हिंदी365
अनिल अंबानी धीरू भाई अंबानी के छोटे बेटे हैं। यानि मुकेश अंबानी के छोटे भाई। इनका जन्म 4 जून 1959 को मुंबई (तत्कालीन बॉम्बे) में हुआ। मुंबई की मुंबई युनिवर्सिटी से ये पढ़े और बाद में व्हार्टन स्कूल(यूनिवर्सिटी ऑफ़ पेंसिल्वेनिया) से इन्होने 1983 में एमबीए किया। भारतीय एक्ट्रेस टीना मुनीम से इन्होने शादी कर ली और इनके दो बच्चे हैं  - जय अंशुज अंबानी और जय अनमोल अंबानी। 

अनिल का इस समय पूरी संपत्ति को देखते हुए नेट वर्थ देखें तो 2 बिलियन अमेरिकी डॉलर यानि 141.31 अरब रूपये (जुलाई 2018 के आंकड़े ) हैं। ये रिलायन्स अनिल धीरू भाई अंबानी ग्रुप के चेयरमैन हैं। 2002 में अपने पिता की मृत्यु के बाद अनिल और मुकेश ने जायदाद का बटवारा किया। इसमें अनिल ने रिलायंस टेलीकॉम, रिलायंस एंटरटेनमेंट, रिलायन्स फाइनेंसियल सर्विसेज, रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर और रिलायन्स पॉवर ले लिए। 
2008 में रिलायन्स पावर का आईपीओ निकला। 60 सेकंड से भी कम समय में पूरा आईपीओ बिक गया।  ये अभी तक का रिकॉर्ड तुल्य ट्रांज़ैक्शन था। 
2005 में एडलैब्स फिल्म्स में अनिल ने मेजोरिटी स्टेक खरीद लिए और 2009 में उसका नाम बदलकर रिलायन्स मीडियावर्क्स रख दिया। 

अनिल अम्बानी से जुड़े कुछ अन्य प्रश्न :
प्रश्न : अनिल अंबानी ने 467 हेक्टेयर जमीन नागपुर में कब खरीदी?
उत्तर : ख़बरों के अनुसार ये ट्रांज़ैक्शन 2008 - 09 में शुरू हुआ था। नागपुर के यवतमाल जंगल में सी क्लास फॉरेस्ट के एक पैच पर रिलायन्स के रिलायन्स सीमेंटेशन प्राइवेट लिमिटेड कंपनी ने ये सौदा शुरू किया था। उन्होंने आसपास का प्राइवेट जमीन खरीद लिया था और फिर फोरेस्ट लैंड के लिए 2009 में कांग्रेस के मुख्यमंत्री अशोक चवण के पास गए थे और उन्होंने इसके लिए आस्वासन भी दिया था। 2011 में फॉरेस्ट लैंड कन्वर्जन के लिए औपचारिक एप्लीकेशन फाइल की गयी। अप्रैल 2012 में इसको राज्य सरकार की सहमति मिल गयी और इसे केंद्र सरकार के पास भेज दिया गया। ऐसा बताया जा रहा है दिसंबर 2012 को केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय (फोरेस्ट ) ने भी इस पत्र को अपनी मंजूरी दे दी थी। 22 जनवरी 2018 को महाराष्ट्र सरकार ने केंद्र सरकार के निर्देशानुसार इसको हरी झंडी दिखा दी है। ये एरिया मुकुटबन के आसपास का है। टीपेश्वर वाइल्डलाइफ सेंचुरी से लगभग 60 किलोमीटर दूर है। इसमें टाइगर रहते है। 

प्रश्न : क्या सुप्रीम कोर्ट ने अनिल अंबानी का पासपोर्ट जब्त करने का आदेश दिया है?
उत्तर : एरिकसन नामक स्वीडिश कंपनी ने ऐसा करने के सुप्रीम कोर्ट को अक्टूबर 2018 में अपील जरूर की थी लेकिन ऐसा कुछ हुआ नहीं है। कोर्ट ने ऐसा कोई फैसला अभी तक नहीं सुनाया है। 

प्रश्न : क्या अनिल अम्बानी पानी के जहाज बनाते हैं ?
उत्तर : जी हाँ। अनिल अम्बानी की कंपनी रिलायन्स नवाल एंड इंजीनियरिंग लिमिटेड (भूतपूर्व पीपावाव शिपयार्ड ) एक जहाज व हैवी मशीन बनाने वाली कंपनी है। ये शिपयार्ड गुजरात के पीपावाव नामक जगह पर स्थित है। इस कंपनी का मुख्यालय मुंबई में है। 

प्रश्न : क्या अनिल अम्बानी के अपने न्यूज़ चैनल हैं ?
उत्तर : नहीं। उनके अपने कोई न्यूज़ चैनल नहीं हैं। लेकिन टीवी टुडे नेटवर्क में उनके लगभग 12 प्रतिशत स्टेक हैं। टीवी टुडे के आज तक(हिंदी ), इंडिया टुडे (इंग्लिश), तेज़ टीवी (हिंदी ), बिज़नेस टुडे (इंग्लिश )और दिल्ली आज तक (हिंदी ) इत्यादि न्यूज़ चैनल चलते हैं। 
Continue Reading...

गूगल एडसेंस से जुड़े प्रश्न

कोई टिप्पणी नहीं:

गूगल एडसेंस से जुड़े प्रश्न

अगर आप गूगल के साथ पार्टनर पब्लिशर बनके अपने प्लेटफार्म वेबसाइट या मोबाइल एप्प या अन्य इस तरह के प्लेटफार्म पर गूगल एड चलाना चाहते हैं और उससे पैसा कमाना चाहते हैं तो आप गूगल एडसेंस से कैसे जुड़ सकते हैं ये मैं आपको बताऊंगा आज। 

गूगल एडसेंस लोगो - हिंदी 365
गूगल एडसेंस लोगो - हिंदी 365 
आइये जानते हैं कि गूगल एडसेंस क्या है ?
गूगल एडसेंस गूगल का ही एक प्रोडक्ट है जिस पर पब्लिशर यानि वेब पब्लिशर्स का रजिस्ट्रेशन होता है तथा गूगल द्वारा जो  एड आपकी वेबसाइट पर चलाये जाने हैं उसका कोड भी यहीं मिलता है। आपको पेमेंट भी इसी पोर्टल के माध्यम से ही मिलता है। आप इस पर देख सकते है कि आप का कौन सा एड कितने रूपये कमा रहा है इत्यादि। 
आइये स्टेप बाई स्टेप जानते हैं क्या प्रोसेस होता है एडसेंस से जुड़ने के लिए ?
1 आप अपनी वेबसाइट या मोबाइल एप बनाते हैं। 
2. उसके बाद आप सभी के पास जो भी गूगल एडसेंस से जुड़ना चाहते है एक गूगल अकाउंट बना लें आसान शब्दों में आपका जीमेल अकाउंट। गूगल के एक ही अकॉउंट से आप उसके सभी प्रोडट्स का इस्तेमाल कर सकते हैं। 
3. अब आप गूगल सर्च में गूगल एडसेंस लिखे और एडसेंस वेबसाइट पर अपने जीमेल अकाउंट से लॉगिन कर लें। आप से आपके प्लेटफार्म का यूआरएल पूछा जायेगा रजिस्ट्रेशन करते वक्त। वह ध्यान से डालें क्यूंकि गूगल इसके बाद आपके प्लेटफार्म को चेक करते हैं। 
4.  गूगल कई बार आपके रजिस्ट्रेशन को रिजेक्ट भी कर सकते हैं अगर उन्हें लगता है कि एडसेंस की सभी पॉलिसी मैच नहीं हो रही हैं। आप भी रजिस्ट्रेशन से पहले पॉलिसी पढ़ लें उससे काफी ज्ञान बढ़ेगा आपका एडसेंस के बारे में। 
5. अगर आपका रजिस्ट्रेशन अप्रूव हो जाता है तो आपको नोटिफिकेशन आ जायेगा और आप उसके बाद वहीँ से एड यूनिट कोड लेकर अपनी वेबसाइट पर डाल सकते हैं।  इसके बाद आपको कुछ नहीं करना है पेमेंट सेक्शन में अपने बैंक अकाउंट को जोड़ लें और वेबसाइट पर अच्छा अच्छा कंटेंट डालते जाएँ और मजे लें। आपके पैसे आपके अकाउंट में आते रहेंगे। 

एडसेंस से जुड़े कुछ अन्य प्रश्न :
प्रश्न : मेरा एडसेंस कब तक होगा ?
उत्तर : इसके अप्रूवल में लगभग 2 -7 दिन का समय लगता है। एडसेंस पॉलिसी और निर्देशों को ध्यान से पढ़ लीजिये और निश्चिंत बैठिये। 

प्रश्न : मेरा एडसेंसे अकाउंट क्रिएट करने के लिए जो कोड आता है मेरे ईमेल पर नहीं आता क्या करूँ ?
उत्तर : चेक करिये अपने मेल बॉक्स के सारे फ़ोल्डर्स। और चेक करें आपने सही मेल तो डाला है न रजिस्ट्रेशन करते वक्त। कई बार लोगो के दो जीमेल अकाउंट होते हैं वो एडसेंस का रजिस्ट्रेशन अलग अकाउंट से करते है और कोड अलग अकाउंट में देखते हैं। और वेबसाइट पर एड दिखाने का कोड एडसेंस में ही मिलेगा। 

प्रश्न : मेरा आइडेंटिटी वेरिफिकेशन फ़ैल हो गया है क्या करूँ ?
उत्तर : चेक करो आपके हर जगह पर नाम एक ही हैं क्या। डिटेल मिसमैच होने की वजह से आइडेंटिटी वेरिफिकेशन फेल होता है। जैसे कि आपका पेमेंट डिटेल का नाम और पब्लिशर का नाम अलग नहीं होना चाहिए। एक बार चेक कर लो जैसे ही आप इसे वेरिफाई कर लेंगे उसके बाद फिर से एड शुरू हो जायेंगे आपके प्लेटफार्म पर। 

प्रश्न : एडसेंस में मैक्सिमम कितना विदड्रा कर सकते है ?
उत्तर : ऐसी कोई मैक्सिमम लिमिट नहीं है जितना आपकी वेबसाइट पैसा कमाएगी आप ले सकते हैं। 

प्रश्न : एडसेंस सीपीसी (कॉस्ट पर क्लिक) कम होने के 5 मुख्य कारण क्या होते है ?
उत्तर : सबसे पहला होता है एड्स का सही जगह पर नहीं लगा होना। अगर आपका एड अच्छी जगह पर नहीं लगा है उसे यूजर सही से देख नहीं पता है तो आपका सीपीसी कम रहता है। 
2 जिस एडवरटाइजर का एड आपकी वेबसाइट पर चल रहा है हो सकता है कि वह कम बिड करता हो उस कम इन्वेस्टमेंट की वजह से भी सीपीसी लो रह सकता है। 
3 आपकी वेबसाइट पर कंटेंट कम या कम क्वालिटी का होने की वजह से भी सीपीसी कम हो जाता है। 
4 वेबसाइट पर कम लोगों का आना भी सीपीसी कम करता है। 
5 अगर आपकी वेबसाइट से इनवैलिड क्लिक यानि अनचाहे क्लिक होते हैं जिससे एडवरटाइजर को कोई फायदा नहीं होटा तो गूगल ऑटोमेटिकली सीपीसी कम कर देता है। 

प्रश्न : एडसेंस का मालिक कौन है ?
उत्तर : एडसेंस का मालिक गूगल ही है इनके मालिक नहीं बल्कि पैरेंट आर्गेनाइजेशन होती हैं। 
Continue Reading...

सुषमा स्वराज के बारे में जानकारी

कोई टिप्पणी नहीं:

सुषमा स्वराज के बारे में जानकारी

आइए आज जानते हैं लोगों की बेहद चहेती नेता सुषमा स्वराज के बारे मे। सुषमा स्वराज के पिता हरदेव शर्मा आरएसएस के एक ऊचें कद के नेता थे। बस राजनीति से इतना कनेक्शन था इनका और आज देखिये किस तरह अपने दम पर ये किस पद पर पहुँच चुकी हैं।


सुषमा स्वराज का जन्म 14 फरवरी 1952 को हरियाणा के अम्बाला में हुआ। अम्बाला के सनातन धर्म कॉलेज से सुषमा जी ने संस्कृत और राजनीति शास्त्र के साथ बीए किया और फिर पंजाब विश्वविद्यालय चंडीगढ़ से लॉ की पढाई की। उनमे बोलने का इतना हुनर है कि हरियाणा विश्व विद्यालय के लैंग्वेज डिपार्टमेंट द्वारा आयोजित राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में उन्हें लगातार तीन बार बेस्ट हिंदी स्पीकर का अवॉर्ड मिला। 
1973 में उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में वकील के तौर पर प्रैक्टिस करनी शुरू कर दी। सुषमा जी का राजनीतिक करियर भी एबीवीपी से ही शुरू हुआ इनके पति स्वराज कौशल उस समय के सामाजिक कार्यकर्ता जॉर्ज फर्नांडिस से जुड़े हुए थे। इस तरह सुषमा जी उनकी वकीलों की टीम का हिस्सा बन गयी। फिर जयप्रकाश नारायण के आंदोलन में भी इन्होने हिस्सा लिया। 
25 साल की उम्र में यह हरियाणा की सबसे छोटी कैबिनेट मिनिस्टर बन गयी। इन्होने अम्बाला कैंट की सीट पर अपना कब्ज़ा कर लिया था। वो दो बार इस सीट से विधायक बनी 1977 -82 और फिर 1987 - 1990. उस समय हरियाणा में जनता दल की सरकार थी और देवी लाल मुख्यमंत्री थे हरियाणा के। तो उन्होंने सुषमा को कैबिनेट मिनिस्टर बनाया। फिर बाद में जब सुषमा चुनकर आयीं तो शिक्षा मंत्री रही हरियाणा सरकार में। 
1998 में सुषमा स्वराज दिल्ली की मुख्यमंत्री बनी लेकिन महगाई बढ़ने के कारण उनकी सरकार गिर गयी। और फिर इसी तरह सुषमा राष्ट्रीय स्तर की राजनीती में आ गयी। 
1990 में वह राज्यसभा के लिए चुनी गयी। 06 साल बाद दिल्ली साउथ से लोकसभा सदस्य के तौर पर 1996 में चुनी गयी और वाजपेयी सरकार में यूनियन कैबिनेट मिनिस्टर(इनफार्मेशन एंड ब्रॉडकास्टिंग ) रही। लेकिन सरकार 13 दिन ही चल पायी। इसी तरह सुषमा अब एक राष्ट्रिय नेता बन चुकी थी। वह काफी लोकप्रिय है। उन्होंने काफी जगह से अपना हाथ आजमाया और ज्यादातर रिजल्ट अच्छे ही आये। 
इस समय सुषमा जी मध्य प्रदेश की विदिशा सीट से दूसरी बार लोकसभा सदस्य हैं और वर्तमान नरेंद्र मोदी सरकार में 26 मई 2014 से विदेश मंत्री हैं। इंदिरा गाँधी के बाद वह देश की दूसरी महिला विदेश मंत्री हैं। 

सुषमा स्वराज से जुड़े कुछ प्रश्न 
प्रश्न : विश्व हिंदी दिवस सम्मेलन 2018 के अवसर किसने मॉरीशस में पाणिनि भाषा प्रयोगशाला का उद्घाटन किया है
a नरेन्द्र मोदी
b अरुण जेटली
c सुषमा स्वराज
d रामनाथ कोविंद
उत्तर : सुषमा स्वराज

प्रश्न : निम्न में से किसने कभी लोकसभा चुनाव नहीं हारा ममता बनर्जी, मेनका गाँधी, सुषमा स्वराज व सुमित्रा महाजन ?
उत्तर : सुमित्रा महाजन

प्रश्न : सुषमा स्वराज कब लोक सभा चुनाव हारी ?
उत्तर : सितम्बर 1999 में 13वे लोकसभा चुनावों में सुषमा को बीजेपी ने कर्नाटक की बेल्लारी सीट से लोकसभा चुनाव लड़वाया। ये सीट हमेशा से कांग्रेस के पास रही थी। यहाँ सोनिया गाँधी जी के खिलाफ सुषमा जी ने काफी मेहनत करके कन्नड़ में भाषण देकर सिर्फ 12 दिन में खूब लोकप्रियता बटोरी। कांग्रेस पार्टी  ने अपनी पूरी ताकत झौंक दी इज्जत बचाने के लिए। सुषमा सिर्फ 7 प्रतिशत वोट के मार्जिन से चुनाव हार गयी। सुषमा ने 12 दिन में करीब 358000 वोट पाए थे।

प्रश्न : सुषमा स्वराज जब विदेश मंत्री बनी तो पहली बार वो किस देश के दौरे पर गयी ?
उत्तर : उनकी विदेश मंत्री बनने के बाद 25 जून 2014 को पहला विदेशी दौरा बांग्लादेश का हुआ। वो ढाका में बांग्लादेश के राष्ट्रपति अब्दुल हमीद, प्रधान मंत्री शेख हसीना और वहां के विदेश मंत्री ए एच महमूद अली से मिली। 
Continue Reading...